नकदी खपाने के लिए नई प्रणाली पर विचार

रॉयटर्स | मुंबई Mar 23, 2017 09:48 PM IST

केंद्रीय वित्त मंत्रालय ने बैंकिंग तंत्र में अतिरिक्त नकदी को खपाने के लिए एक नई प्रणाली के गठन पर चर्चा के लिए शुक्रवार को बैंकों की बैठक बुलाई है। इस संबंध में गुरुवार को बैंकों के प्रमुखों को पत्र भेजा जा चुका है।
पत्र में कहा गया है, 'वित्त मंत्रालय 'स्टैंडिंग डिपोजिट फैसिलिटी' नाम से नए ढांचे के क्रियान्वयन पर चर्चा करना
चाहता है। इस नई व्यवस्था से रीपो दर की तुलना में कम दर पर अतिरिक्त जमा को खपाने में मदद मिलेगी।' यदि इस योजना पर अमल होता है तो इससे भारतीय नियामकों को अतिरिक्त नकदी खपाने से संबंधित एक बड़ी समस्या को सुलझाने में मदद मिलेगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा नवंबर में 500 और 1000 रुपये के पुराने नोटों को चलन से बाहर किए जाने की घोषणा के बाद से नकद जमाओं में भारी तेजी आई।
नकद जमाओं में तेजी की वजह से बैंकिंग व्यवस्था में तरलता बढ़कर मार्च में लगभग 4 लाख करोड़ रुपये हो गई जो जनवरी में 2 लाख करोड़ रुपये थी। नकदी की इस मात्रा को लेकर ऐसे समय में मुद्रास्फीति को लेकर चिंता बढ़ गई है जब आरबीआई अपने नीतिगत रुख को 'एकोमोडेटिव' से बदलकर 'न्यूट्रल' कर कीमत वृद्घि को रोकने की संभावना तलाश रहा है।
रॉयटर्स द्वारा नई योजना के बारे में खबरें दिए जाने के बाद बॉन्ड में भारी गिरावट आ गई क्योंकि बेंचमार्क 10 वर्षीय सरकारी बॉन्ड का प्रतिफल 5 आधार अंक तक चढ़कर 6.83 फीसदी पर पहुंच गया।

कीवर्ड banking, finance ministry, cash,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक