ब्याज दर में बदलाव नहीं करेगा आरबीआई

भाषा |  Apr 02, 2017 10:43 PM IST

महंगाई बढऩे तथा वैश्विक गतिविधियों को देखते हुए रिजर्व बैंक गुरुवार को 2017-18 की पहली द्विमासिक मौद्रिक नीति समीक्षा में यथास्थिति बनाए रख सकता है। विशेषज्ञों के अनुसार अमेरिका में ब्याज दर में वृद्धि इस बात का संकेत है कि रिजर्व बैंक की मानक नीतिगत दर कम नहीं हो जा रही है बल्कि भविष्य में बढ़ सकती है, जो घरेलू और बाह्य कारकों पर निर्भर करेगा। कोटक महिंद्रा बैंक के उपाध्यक्ष उदय कोटक ने कहा, 'मुझे लगता है कि रिजर्व बैंक आगामी मौद्रिक नीति समीक्षा में प्रमुख नीतिगत दर को बरकरार रखेगा।'
उन्होंने यह भी कहा कि 25 आधार अंक की कमी या बढ़ोतरी उभरती स्थिति पर निर्भर करता है। निजी क्षेत्र के अन्य बैंक प्रमुखों के अनुसार केंद्रीय बैंक 6 अप्रैल को नीतिगत दर में कोई बदलाव नहीं करेगा। रिजर्व बैंक के गवर्नर ऊर्जित पटेल ने 8 फरवरी को पिछली मौद्रिक नीति समीक्षा में नीतिगत दर को 6.25 फीसदी पर बरकरार रखा था। पटेल ने कहा कि वह नीतिगत दर में बदलाव से पहले महंगाई की प्रवृत्ति और वृद्धि पर नोटबंदी के प्रभाव को लेकर चीजें स्पष्ट होने का इंतजार करेंगे। थोक महंगाई फरवरी में 39 महीने के उच्च स्तर 6.55 फीसदी रही जबकि खुदरा महंगाई बढ़कर 3.65 फीसदी पर पहुंच गई। खाद्य एवं ईंधन के दाम बढऩे से महंगाई दर में बढ़ोतरी हुई है। रेटिंग एजेंसी इक्रा के प्रबंध निदेशक नरेश टक्कर ने कहा, 'हालांकि खुदरा महंगाई मार्च 2017 के लक्ष्य से कम रहने की संभावना है, लेकिन हम अप्रैल 2017 में आगामी मौद्रिक नीति समीक्षा में रीपो दर में कटौती की उम्मीद नहीं कर रहे। मौद्रिक नीति समिति का जोर 4 फीसदी के मध्यम अवधि के लक्ष्य पर है।' 
कीवर्ड RBI, Monetary policy,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक