सरकार से नियमों में ढील चाहते हैं लघु वित्त बैंक

नम्रता आचार्य | कोलकाता Apr 23, 2017 09:32 PM IST

नियम बदलने से संकट

रिजर्व बैंक ने बैंकिंग करेस्पॉन्डेट को बैंकिंग आउटलेट में शामिल कर व्यापक किया दायरा
एसबीएफ को ऐसे इलाके ढूंढने में करना पड़ रहा है चुनौतियों का सामना जहां नहीं हैं बैंक
इसके पहले बगैर बैंक वाला क्षेत्र उन ग्रामीण केंद्रों को माना जाता था जहां नहीं थी किसी वाणिज्यिक बैंक की भौतिक उपस्थिति

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) द्वारा बैंकिंग आउटलेट की परिभाषा व्यापक कर उसमें बैंकिंग करेस्पॉन्डेंट को शामिल किए जाने से लघु वित्त बैंकों (एसएफबी) को बगैर बैंक वाले क्षेत्र तलाशने में मुश्किल हो रही है। इसे देखते हुए एसबीएफ ने रिजर्व बैंक से मानकों में ढील दिए जाने की मांग की है। एक लघु वित्त बैंक के प्रवक्ता ने कहा, 'एसबीएफ ने प्रस्ताव किया है कि एक बार बैंक रहित क्षेत्र चिह्नित होने के बाद रिजर्व बैंक को उसके बारे में अधिसूचित करना चाहिए और बाद में अगर कोई बैंक बैंकिंग करेस्पॉन्डेंट (बीसी) के माध्यम से आउटलेट खोलता है तो उसे एसबीएफ के लिए बैंक रहित क्षेत्र की शाखा के रूप में गिना जाना चाहिए।'

एसबीएफ को बैंक की शाखाएं खोलने के लिए रिजïर्व बैंक से पूर्व अनुमति लेनी पड़ती है, वहीं युनिवर्सल बैंंकों को बैंकरहित ग्रामीण क्षेत्रों में शाखाएं खोलने के लिए अनुमति लेने की जरूरत नहींं होती है। ऐसे में एसबीएफ को बैंक रहित इलाके ढूंढने में खासी दिक्कत आ रही है जिससे कि बैंकरहित इलाकों में 25 प्रतिशत शाखाएं खोलने के लक्ष्य को हासिल किया जा सके। 
रिजर्व बैंक ने अपनी हाल की द्विमासिक मौद्रिक नीति समीक्षा में कहा था कि वह बैंकिंग आउटलेट को लेकर जल्द ही विस्तृत दिशानिर्देश जारी करेगा। यह ब्रांच लाइसेंसिंग दिशानिर्देशों की जगह लेगा।  उत्कर्ष लघु वित्त बैंक के मुख्य कार्यकारी अधिकारी और प्रबंध निदेशक गोविंद सिंह ने कहा, 'बैंकिंग आउटलेट पर रिजर्व बैंक की हाल की रिपोर्ट के मुताबिक एसबीएफ को बगैर बैंक वाले इलाकों में 25 शाखाएं खोलने का लक्ष्य पूरा करने में खासी दिक्कत हो रही है। हम एक पुनरीक्षित नीति की उम्मीद कर रहे हैं। इस समय ऐसा होता है कि जब हम शाखा खोलने के लिए इलाके को चिह्नित कर रहे होते हैं, दूसका कोई बैंक पहले ही बीसी आउटलेट या शाखा खोल देता है।' इसके पहले बैंक रहित इलाके का मतलब होता था कि ऐसे ग्रामीण केंद्र जहां अनुसूचित वाणिज्यिक बैंक की  शाखाएं न हों। सूर्योदय लघु वित्त बैंक के प्रबंध निदेशक आर भास्कर बाबू ने कहा, 'पहले साल हम 25 प्रतिशत शाखाएं बैंकरहित इलाकों में खोलने में सफल रहे, लेकिन दूसरे साल से यह लक्ष्य पूरा करना कठिन साबित होगा।' पिछले कुछ साल से बैंकरहित क्षेत्रों की संख्या काफी कम हुई है। 
कीवर्ड bank, loan, debt, भारतीय रिजर्व बैंक,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक