एसबीआई को दोगुना लाभ

बीएस संवाददाता/एजेंसियां | नई दिल्ली/मुंबई May 19, 2017 09:44 PM IST

देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) का एकल शुद्ध लाभ मार्च को समाप्त चौथी तिमाही में 100 से भी ज्यादा बढ़कर 2,814.82 करोड़ रुपये हो गया। पिछले साल की समान तिमाही में बैंक का शुद्ध लाभ 1,263.81 करोड़ रुपये था। जनवरी-मार्च 2017 तिमाही के दौरान बैंक का परिचालन मुनाफा 13 फीसदी बढ़कर 16,026 करोड़ रुपये, जो पिछले साल इसी दौरान 14,192 करोड़ रुपये था। मार्च 2017 तिमाही में एकल आधार पर बैंक की कुल आय 7.8 फीसदी बढ़कर 57,720 करोड़ रुपये रही, जो एक साल साल पहले इसी अवधि में 53,526.97 करोड़ रुपये थी। हालांकि बैंक ने मार्च तिमाही का संचयी आंकड़ा उपलब्ध नहीं कराया है।

 
इस दौरान बैंक की सकल गैर-निष्पादित आस्तियां मामूली बढ़कर 6.9 फीसदी हो गई जो कि इससे पिछले साल इसी अवधि में 6.5 फीसदी थी। हालांकि चौथी तिमाही में बैंक का शुद्ध एनपीए पिछले साल के 3.81 फीसदी से घटकर 3.71 फीसदी रह गया। एसबीआई की चेयरमैन अरुंधती भट्टाचार्य ने कहा कि एसबीआई का अकेले बैंक के रूप में यह अंतिम नतीजा है क्योंकि अब इसमें सहायक बैंकों और भारतीय महिला बैंक का विलय हो गया है। उन्होंने कहा कि यह चुनौतीपूर्ण लेकिन संतोषजनक तिमाही रही और इस दौरान हमने सबसे बड़े विलय को अंजाम दिया।
 
पूरे वित्त वर्ष की बात करें तो 2016-17 में बैंक का एकीकृत शुद्ध लाभ 98 फीसदी घटकर 241.23 करोड़ रुपये रहा। इससे पिछले वित्त वर्ष 2015-16 में बैंक ने 12,224.59 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ हासिल किया था। इसी तरह 2016-17 के दौरान बैंक की कुल आय 9.2 फीसदी बढ़कर 2,98,640.45 करोड़ रुपये रही जबकि इससे पिछले वित्त वर्ष में उसकी कुल आय 2,73,461.13 करोड़ रुपये रही थी। भट्टïाचार्य ने कहा, 'निकट अवधि में बैंक के मार्जिन पर दबाव देखा जा सकता है क्योंकि विलय की वजह से उसकी लागत बढ़ सकती है। हालांकि इस दौरान सहायक बैंकों की जमाओं का बैंक पर सकारात्मक असर दिख सकता है।'  बेहतर नतीजों का असर बैंक के शेयर पर भी दिखा। बंबई स्टॉक एक्सचेंज पर एसबीआई का शेयर 2 फीसदी बढ़त के साथ 315 रुपये पर बंद हुआ।
कीवर्ड SBI, bank, भारतीय स्टेट बैंक,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक