'अगस्त में रीपो दर में कमी संभव'

एजेंसियां |  Jul 04, 2017 10:05 PM IST

रिजर्व बैंक की 2 अगस्त को होने वाली मौद्रिक समीक्षा में रीपो दर में 25 आधार अंक की कटौती की जा सकती है क्योंकि इस दौरान खुदरा मुद्रास्फीति में और गिरावट आने की उम्मीद है। एक अध्ययन के मुताबिक, ताजा अनुमान में जून की खुदरा मुद्रास्फीति 1.5 फीसदी के आसपास रहने की बात कही गई है। बैंक ऑफ अमेरिका मेरिल लिंच (बोफाएमएल) के अनुसार, अगस्त में अगर दरों में कटौती होती है तो इससे बैंकों को अक्टूबर में व्यस्त कामकाजी मौसम के शुरू होने से पहले ब्याज दरों में कटौती करने का संकेत मिलेगा। बोफा-एमएल ने अपने शोधपत्र में कहा है, हमें अगस्त में रिजर्व बैंक की मौद्रिक समीक्षा में दर में 25 आधार अंक की कटौती की उम्मीद है। खुदरा मूल्य सूचकांक आधारित मुद्रास्फीति और घटकर जून में 1.5 फीसदी रह जाने का अनुमान है। रोजाना के आंकड़े यह दिखाते हैं कि खाद्य मुद्रास्फीति घट रही है।
 
आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक मई में खुदरा मुद्रास्फीति घटकर 2.18 फीसदी रह गई जबकि थोक मुद्रास्फीति इस दौरान पांच माह के न्यूनतम स्तर तक गिरकर 2.17 फीसदी रह गई। मुद्रास्फीति में लगातार गिरावट आने से रिजर्व बैंक पर रीपो दर में कटौती का दबाव बढ़ता जा रहा है। रिपोर्ट में कहा गया है कि इस साल मॉनसून भी अच्छा रहने की उम्मीद है। खरीफ मौसम की बुआई पिछले साल के मुकाबले पहले ही 9.6 फीसदी अधिक हो चुकी है। रिपोर्ट में कहा गया है कि जीएसटी दरें मुद्रास्फीति बढ़ाने वाली नहीं होंगी, ऐसी उम्मीद है।            
कीवर्ड repo rate, RBI,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक