एसबीआई ने बचत खाते पर घटाया ब्याज

अभिजित लेले | मुंबई Aug 01, 2017 10:55 AM IST

1 करोड़ रुपये से कम जमा पर 4 % की जगह मिलेगा 3.5 % ब्याज

2011 के बाद पहली बार बचत खाते पर ब्याज दर में कटौती
अन्य बैंक भी चल सकते हैं एसबीआई की राह

देश के सबसे बड़े बैंक भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने बचत खाते पर ब्याज दर में तत्काल प्रभाव से 50 आधार अंक की कटौती की है। बैंक के बचत खाते में 1 करोड़ रुपये तक की जमा पर अब सालाना 4 फीसदी की जगह 3.5 फीसदी की दर से ब्याज मिलेगा। हालांकि 1 करोड़ रुपये से अधिक की जमा पर पहले की तरह 4 फीसदी ब्याज मिलता रहेगा। 25 अक्टूबर 2011 में भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) द्वारा बचत खातों पर बैंकों को ब्याज दर तय करने की आजादी दिए जाने के बाद यह पहला मौका है जब एसबीआई ने ब्याज दर में कटौती की है। जमा पर ब्याज दर में कटौती आरबीआई की मौद्रिक नीति समीक्षा की 2 अगस्त को होने वाली बैठक से दो दिन पहले की गई है।

एसबीआई के निर्णय को तार्किक ठहराते हुए एबीआई के प्रबंध निदेशक (नैशनल बैंकिंग समूह) रजनीश कुमार ने कहा कि कम मुद्रास्फीति और उच्च वास्तविक ब्याज दर को देखते हुए बैंक ने जमा दर घटाने का निर्णय किया। उन्होंने कहा, 'बैंक के पास एमसीएलआर बढ़ाने या बचत खाते पर ब्याज दर घटाने का विकल्प था। लेकिन उधारी दर में बढ़ाने से खुदरा, छोटे और मझोले उद्योगों के लिए कर्ज की दर महंगी हो सकती थी। ऐसे में हमने जमा दर में कटौती करने का विकल्प चुना, ताकि एमसीएलआर मौजूदा स्तर पर बरकरार रह सके।'

बैंक में करीब 90 फीसदी जमा 1 करोड़ रुपये से नीचे के दायरे में आते हैं, ऐसे में एसबीआई को सालाना ब्याज मद में 4,230 करोड़ रुपये की बचत करने में मदद मिलेगी। बैंक के बचत खाते में करीब 9.4 लाख करोड़ रुपये जमा हैं। चालू वित्त वर्ष में बैंक को इससे कुल 2,820 करोड़ रुपये की बचत हो सकती है। इस खबर का बंबई स्टॉक एक्सचेंज में एसबीआई के शेयर पर भी अच्छा असर दिखा। एसबीआई का शेयर 4.5 फीसदी चढ़कर 312 रुपये पर बंद हुआ। बकौल विश्लेषक बैंक ने यह कदम अपना शुद्घ ब्याज मार्जिन बनाए रखने के लिए उठाया है क्योंकि कर्ज की मांग कम होने से आय भी घट गई है।
कीवर्ड ब्याज, कटौती, एसबीआई, बचत खाता, आरबीआई, मौद्रिक नीति समीक्षा, मुद्रास्फीति,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक