एसबीआई ने दिया सस्ते कर्ज का तोहफा

अनूप रॉय और संजय कुमार सिंह | मुंबई Jan 01, 2018 10:18 PM IST

आवास ऋण पर ब्याज दरों में आएगी कमी

► मौजूदा ग्राहकों के लिए आधार दर और प्रधान उधारी दर में 30 आधार अंक की कटौती की
अन्य बैंक भी उठा सकते हैं दरों में कटौती के कदम

नए साल पर भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने चकित करते हुए अपने मौजूदा ग्राहकों के लिए आधार दर और प्रधान उधारी दरों में 30 आधार अंक की कटौती करने की घोषणा की। नई दरें सभी मौजूदा ग्राहकों के लिए 1 जनवरी से लागू हो गई हैं। बैंक ने कहा कि वह नए ग्राहकों और दूसरे बैंक से अपना लोन एसबीआई में शिफ्ट कराने वालों के लिए आवास ऋण के प्रोसेसिंग शुल्क को माफ करने की योजना की अवधि भी बढ़ाकर 31 मार्च तक करेगा। नए ग्राहकों को सीमांत लागत आधारित उधारी दर (एमसीएलआर) के मुताबिक कर्ज दिया जाता है लेकिन खुदरा ग्राहकों, खासतौर पर आवास ऋण और पुराने कॉर्पोरेट कर्ज पर ब्याज आधार दर के हिसाब से वसूला जाता है।

एसबीआई के प्रबंध निदेशक (खुदरा एवं डिजिटल बैंकिंग) पीके गुप्ता ने कहा कि इस कदम से करीब 80 लाख ग्राहकों को फायदा होगा। अब एसबीआई की आधार दर 8.65 फीसदी हो गई है, जबकि बीपीएलआर 13.40 फीसदी है। बैंक आधार दर वह न्यूनतम दर है, जिस पर बैंक अपने ग्राहकों को कर्ज दे सकते हैं।

गुप्ता ने कहा, 'आधार दर में कटौती बैंक के भरोसेमंद ग्राहकों के लिए नए साल का तोहफा है। इस कटौती का लाभ ग्राहकों के एक बड़े वर्ग को मिलेगा। यह कदम हाल के दिनों में नीतिगत दरों में कटौती का लाभ सुनिश्चित करने का प्रयास है।' इसका लाभ वास्तव में काफी अच्छा होगा। उदाहरण के तौर पर अगर किसी व्यक्ति का 20 साल की अवधि के लिए बकाया आवास ऋण 50 लाख रुपये है और उसका ब्याज आधार दर से 15 आधार अंक अधिक यानी 9.10 फीसदी हो, तो अब उस पर 8.80 फीसदी की दर से ब्याज लगेगा। इससे कर्ज लेने वाली मासिक किस्त 45,308 रुपये से घटकर 44,345 रुपये रह जाएगी यानी हर माह करीब 963 रुपये की कमी आएगी।

स्वतंत्र निवेश सलाहकार हर्ष रूंगटा ने कहा, 'पुराने ग्राहक लंबे समय से ऊंची ब्याज दर चुका रहे हैं। इस कदम से ऐसे ग्राहकों का बोझ आंशिक तौर पर कम होगा।' 2016 की शुरुआत में आवास ऋण लेने वाले आधार दर से 10 से 15 आधार अंक अधिक ब्याज चुका रहे हैं, जो अब कम होकर 8.75 से 8.80 फीसदी रह जाएगा। 

बिकवाली के दबाव में लुढ़का सेंसेक्स

वाहन, बैंकिंग व आईटी खंड के शेयरों में गिरावट के चलते बंबई स्टॉक एक्सचेंज का सेंसेक्स सोमवार को साल के पहले दिन 244 अंक लुढ़क कर 34,000 अंक के मनोवैज्ञानिक स्तर से नीचे बंद हुआ। बिकवाली दबाव से सेंसेक्स में यह एक महीने में सबसे बड़ी गिरावट है। इससे पहले एक दिसंबर को यह 316.41 अंक टूटा था। राजकोषीय लक्ष्य में चूक की आशंका, कच्चे तेल की कीमतों में तेजी तथा अंतरराष्ट्रीय बाजार से किसी संकेत के अभाव से बाजार में धारणा प्रभावित हुई। सेंसेक्स 244.08 अंक की गिरावट के साथ 33,812.75 पर बंद हुआ। इसी तरह नैशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 95.15 अंक टूटकर 10,435.55 पर बंद हुआ।  
कीवर्ड आवास ऋण, ब्याज दर, ग्राहक, आधार दर, एसबीआई, एमसीएलआर, डिजिटल बैंकिंग,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक