एचडीएफसी का शुद्ध लाभ हुआ तीन गुना

बीएस संवाददाता | मुंबई Jan 29, 2018 09:58 PM IST

हाउसिंग डेवलपमेंट फाइनैंस कॉरपोरेशन (एचडीएफसी) का शुद्ध लाभ दिसंबर 2017 में समाप्त तीसरी तिमाही के दौरान बढ़कर 56.70 अरब रुपये हो गया। इससे पिछले वित्त वर्ष की समान अवधि में कंपनी ने 17.01 अरब रुपये का शुद्ध लाभ दर्ज किया था। तिमाही के दौरान एचडीएफसी स्टैंडर्ड लाइफ इंश्योरेंस लिमिटेड में आंशिक हिस्सेदारी बिक्री से मुनाफे को बल मिला। बंबई स्टॉक एक्सचेंज पर एचडीएफसी का शेयर आज 2.7 फीसदी की बढ़त के साथ 1,953 रुपये पर बंद हुआ। दिन भर के कारोबार के दौरान एक समय यह 1,982 रुपये पर 52 सप्ताह की सर्वाधिक ऊंचाई तक पहुंच गया था।
 
तिमाही के दौरान एचडीएफसी की शुद्ध आय 14 फीसदी बढ़कर 29.29 अरब रुपये हो गई जो वित्त वर्ष 2017 की तीसरी तिमाही में 25.75 अरब रुपये रही थी। एचडीएफसी स्टैंडर्ड लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड (एचडीएफसी लाइफ) के आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (आईपीओ) से कंपनी को 52.50 अरब रुपये प्राप्त हुए। कंपनी ने 15.75 अरब रुपये का अतिरिक्त विशेष प्रावधान किया जो बीमा कंपनी में हिस्सेदारी बिक्री पर कर पूर्व आय का करीब 30 फीसदी है। इससे भविष्य में किसी भी अप्रत्याशित जोखिम से निपटने के लिए अतिरिक्त पूंजी तैयार करने में मदद मिली। 
 
तिमाही के दौरान एचडीएफसी का ऋण खाता 19.6 फीसदी बढ़कर 3.42 लाख करोड़ रुपये हो गया जो एक साल पहले की समान अवधि में 2.86 लाख करोड़ रुपये रहा था। इस दौरान कंपनी ने किसी भी ऋण की बिक्री नहीं की। एचडीएफसी की कुल प्रबंधनाधीन परिसंपत्तियों में व्यक्तिगत ऋण की हिस्सेदारी 72 फीसदी है। एचडीएफसी के उपाध्यक्ष एवं मुख्य कार्याधिकारी केकी मिस्त्री ने कहा कि कंपनी ने आर्थिक रूप से कमजोर तबकों (ईडब्ल्यूएस) और कम आय वर्ग (एलआईजी) के लोगों को ऋण देने के लिए अपने प्रयास में तेजी लाई है। उन्होंने कहा कि सस्ते आवासीय श्रेणी में कारोबार अब तेजी से बढ़ रहा है। 
 
उन्होंने कहा कि एचडीएफसी अब ईडब्ल्यूएस और एलआईजी श्रेणी में मासिक आधार पर औसतन करीब 8,000 ऋण आवेदनों को मंजूरी दे रही है जिसके तहत औसत मासिक ऋण का आकार करीब 13 अरब रुपये है। एचडीएफसी का पूंजी पर्याप्तता अनुपात बढ़कर 16.9 फीसदी हो गया।
कीवर्ड HDFC, bank, loan debt, fund,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक