व्हिसलब्लोअर ने बंद कर दिया लिंक्डइन प्रोफाइल

समीरन अहमद |  Feb 18, 2018 09:49 PM IST

नीरव मोदी घोटाला मामले के व्हिसलब्लोअर हरि प्रसाद एसवी को जैसे ही मीडिया ने खोजा तो बेंगलूरु के इस उद्यमी ने लिंक्डइन प्रोफाइल बंद कर दिया। उन्होंने कहा, ये बड़े धोखेबाज हैं और इसने मुझे चिंतित कर दिया है।
साल 2016 में प्रसाद ने प्रधानमंत्री कार्यालय को लिखा था कि गीतांजलि ब्रांड का खुदरा स्टोर खोलने के बाद गीतांजलि जेम्स के प्रबंध निदेशक और नीरव मोदी के कारोबारी साझेदार मेहुल चोकसी ने उनके साथ 13 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी की। इसे किंगफिशर और सहारा घोटाले के समान बताते हुए उन्होंने बेंगलूरु पुलिस, प्रवर्तन निदेशालय और सीबीआई का दरवाजा खटखटाया था, लेकिन कुछ नहीं हुआ।
प्रसाद की तरफ से पीएमओ को लिखा गया पत्र कांग्रेस पार्टी ने सार्वजनिक किया। वह हालांकि किसी राजनीतिक दल से संबद्ध होने से इनकार करते हैं। आंध्र प्रदेश कृषि विश्वविद्यालय, बापटला से 1984 में कृषि विज्ञान में स्नातक की उपाधि लेने वाले प्रसाद ने नई दिल्ली के आईआईपीएम से एमबीए की डिग्री भी ली है। वह आंध्र प्रदेश के एक कारोबारी घराने से ताल्लुक रखते हैं और 1993 में अपना उद्यम सेटेक्स ग्रुप शुरू करने से पहले फ्रांस की एक कंपनी के साथ काम किया था।
सेटेक्स समूह हॉन्ग-कॉन्ग, चीन, दक्षिण कोरिया, ताइवान, थाइलैंड और इंडोनेशिया में ट्रेडिंग गतिविधियों में शामिल था। इंडियन इंस्टिट््यूट ऑफ फॉरेन ट्रेड से एक साल वाला इंटरनैशनल बिजनेस कोर्स करने वाले प्रसाद ने कहा कि 15 साल विदेश में बिताने के बाद वह 2004 में भारत लौटे।
वह कारोबार से ब्रेक लेना चाहते थे और इस वजह से उन्होंने अपनी बचत शेयर बाजार में लगाई। जब साल 2008 में बाजार काफी ज्यादा टूटा तो उन्होंने आय के लिए अन्य जरिया तलाशना शुरू किया। प्रसाद की नजर 2012 में अखबार के एक विज्ञापन पर पड़ी और उन्होंने चोकसी के साथ खुदरा आभूषण कारोबार में निवेश किया। चोकसी ने इन्हें 10 करोड़ रुपये के निवेश पर 15 लाख तय मासिक आय का वादा किया था। लेकिन प्रसाद ने धीरे-धीरे पूरी रकम गंवा दी। उन्होंने कहा, मैं रत्न व आभूषण में दोबारा कभी निवेश नहींं करूंगा।
कीवर्ड PNB, Banks, fraud whistleblower,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक