घोटाले पर केंद्रीय सतर्कता आयुक्त की नजर

एजेंसियां | नई दिल्ली Feb 19, 2018 09:53 PM IST

सीबीआई की जांच जारी

सीवीसी ने पीएबी व वित्त मंत्रालय के अधिकारियों संग की बैठक,

पंजाब नैशनल बैंक के 11,400 करोड़ रुपये के घोटाले के मामले में केंद्रीय सतर्कता आयुक्त के वी चौधरी ने आज पीएनबी के वरिष्ठ अधिकारियों और वित्त मंत्रालय के अधिकारियों से बातचीत की। इस घोटाले से हीरा कारोबारी नीरव मोदी व अन्य जुड़े हुए हैं और इसकी जांच सीबीआई कर रहा है। समझा जाता है कि बैंक के अधिकारियों ने इस धोखाधड़ी से निपटने के लिए उनकी तरफ से उठाए गए कदमों की जानकारी केंद्रीय सतर्कता आयुक्त को दी। एक सरकारी सूत्र ने यह जानकारी दी। उन्होंने इस मामले में कथित तौर पर शामिल अधिकारियों के खिलाफ प्रबंधन की ओर से की गई कार्रवाई की जानकारी भी सीवीसी के साथ साझा की। यह बैठक सीवीसी के कार्यालय में दिन में 11 बजे शुरू हुई और दो घंटे तक चली।

चौधरी के अलावा सतर्कता आयुक्त टी एम भसीन व वित्त मंत्रालय और पीएनबी के अधिकारियों ने इस बैठक में हिस्सा लिया। बैठक के बाद पीएनबी व वित्त मंत्रालय के अधिकारी मीडिया से बातचीत किए बिना वहां से निकल गए। सीवीसी प्रमुख ने भी इस बैठक के बारे में किसी तरह की टिप्पणी से मना कर दिया। उन्होंंने संवाददाताओं से कहा, यह ऐसी बात नहीं है जिसकी चर्चा सार्वजनिक तौर पर की जाए। सीबीआई ने 31 जनवरी व कुछ दिन पहले मोदी, उनके संबंधी मेहुल चोकसी व अन्य के खिलाफ दो एफआईआर दर्ज की है, जो पीएनबी के साथ कथित तौर पर 11,400 करोड़ रुपये की धोखाधड़ी से जुड़ा है।  सीवीसी ने बैंक सिक्योरिटी और सीबीआई के फ्रॉड सेल के एसपी से भी मुलाकात की। सूत्रों ने यह जानकारी दी। 

मुख्य वित्तीय अधिकारी से पूछताछ

सीबीआई नीरव मोदी की कंपनी फायरस्टार डायमंड के मुख्य वित्तीय अधिकारी विपुल अंबानी से पूछताछ कर रही है, साथ ही वह मुंबई में पीएनबी की ब्रेडी रोड शाखा में तलाशी अभियान चला रही है। एक अधिकारी ने यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि अंबानी तीन साल से इस पद पर रहे हैं और माना जाता है कि उन्हें आभूषण कारोबारी की कंपनी के वित्तीय लेनदेन की जानकारी होगी। समझा जाता है कि अंबानी दिवंगत उद्योगपति धीरूभाई अंबानी के संबंधी हैं। सीबीआई ने पिछली शाम से ही शाखा में तलाशी अभियान तेज कर दिया है, जहां कथित तौर पर धोखाधड़ी हुई। सीबीआई के एक प्रवक्ता ने कहा कि इस शाखा को सुबह थोड़े समय के लिए सील किया गया था ताकि संभावित गड़बड़ी को रोका जा सके। उन्होंंने कहा कि दिन में सील और नोटिस दोनों हटा लिए गए।

एजेंसी ने पीएनबी के दो अधिकारियों और नीरव मोदी की कंपनी के अधिकृत हस्ताक्षरकर्ता से पूछताछ जारी रखी। जांच एजेंसी ने पांच अन्य अधिकारियों से पूछताछ शुुरू की है, जिसमें महाप्रबंधक स्तर के कर्मचारी शामिल हैं और इस तरह से सवालों के घेरे में आए कर्मियों की संख्या 11 हो गई है। सीबीआई के अधिकारियों ने कहा कि पूर्व बैंक अधिकारी गोकुलनाथ शेट्टी और एक अन्य कर्मी मनोज खराट से पूछताछ अब भी हो रही है। सीबीआई गीतांजलि समूह की 18 भारतीय सहायक कंपनियों के वित्तीय लेनदेन की जांच कर रही है।
कीवर्ड nirav modi, bank, loan, debt, PNB, fraud,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक