'निगरानी प्रणाली की नए सिरे से जांच की दरकार'

भाषा |  Feb 23, 2018 10:11 PM IST

पंजाब नैशनल बैंक (पीएनबी) की पूर्व प्रमुख उषा अनंतसुब्रमण्यन ने शुक्रवार को माना कि सीबीएस से स्विफ्ट का जुड़ाव न होना बैंक में 11,400 करोड़ रुपये के घोटाले की वजह हो सकती है। उन्होंने कहा कि बैंक को तत्काल अपनी निगरानी प्रणाली की नए सिरे से जांच कर किसी तरह की खामी को दूर करना चाहिए। अनंतसुब्रमण्यन फिलहाल इलाहाबाद बैंक की प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्याधिकारी हैं। उन्होंने कहा कि इलाहाबाद बैंक की स्विफ्ट प्रणाली भी सीबीएस से नहीं जुड़ी है और फिलहाल दोनों प्रणालियों को जोडऩे का काम चल रहा है। 
 
इस बैंक में बड़ा घोटाला सामने आया है। अरबपति हीरा कारोबारी नीरव मोदी ने पीएनबी की मुंबई की शाखा से धोखाधड़ीपूर्ण तरीके से एलओयू हासिल कर अन्य बैंकों की विदेशी शाखाओं से कर्ज लिया था। पीएनबी में कथित तौर पर यह धोखाधड़ी 2011 में शुरू हुई थी। अनंतसुब्रमण्यन अगस्त 2015 से मई 2017 के दौरान पीएनबी की प्रबंध निदेशक व सीईओ थीं। वह जुलाई 2011 से नवंबर 2013 तक पीएनबी की कार्यकारी निदेशक थीं। उन्होंने कहा कि जिन बैंकों ने अभी तक स्विफ्ट को सीबीएस से नहीं जोड़ा है उन्हें रिजर्व बैंक ने इस प्रक्रिया को 30 अप्रैल 2018 तक पूरा करने को कहा है। यह समयसीमा हो सकती है, लेकिन आज हर कोई लिंकेज ऑफ सोसायटी फॉर वल्र्डवाइड इंटरबैंक फाइनैंशियल टेलीकम्युनिकेशन (स्विफ्ट) को सीबीएस से जोडऩा चाहता है।  
कीवर्ड nirav modi, bank, loan, debt, PNB, fraud,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक