विदेशी बैंक कर रहे काउंटर पार्टी सीमा की समीक्षा

अभिजित लेले | मुंबई Feb 25, 2018 09:42 PM IST

रेटिंग एजेंंसियों मूडीज व फिच की तरफ से पीएनबी की रेटिंग में संभावित गिरावट के लिहाज से इसे निगरानी के दायरे में रखने के बाद विदेशी बैंकों ने पंजाब नैशनल बैंक के लिए द्विपक्षीय आवंटन सीमा की समीक्षा शुरू कर दी है। पीएनबी का 114 अरब रुपये का घोटाला सामने आने के बाद इसकी रेटिंग निगरानी के दायरे में रख दी गई है, जिसमें बैंक के कुछ कर्मचारियों की तरफ से फर्जी लेटर ऑफ अंडरटेकिंग आभूषण कारोबारी नीरव मोदी की कंपनियों को जारी किए गए थे। शुक्रवार को पीएनबी ने विदेशी बैंकों के साथ कॉन्फ्रेंस किया था। इसने आश्वस्त किया था कि बैंक की वित्तीय स्थिति मजबूत है और वह एलओयू केमामले में किसी ठोस दावे को पूरा करने में सक्षम है। बैंक ने जोखिम प्रबंधन की व्यवस्था में सुधार के लिए कदम उठाए हैं। 
 
एलओयू एक तरह की बैंंक गारंटी है जिसके तहत बैंक अपने ग्राहक को किसी भारतीय बैंक की विदेशी शाखा से अल्पावधि कर्ज के तौर पर रकम लेने की अनुमति देता है। विदेशी बैंक के अधिकारियों ने कहा कि पीएनबी ने कहा कि इसका कोर बैंंकिंग प्लेटफॉर्म फिनैकल और स्विफ्ट को 31 मार्च 2018 तक पूरी तरह एकीकृत कर दिया जाएगा। खरीदार की उधारी के लिए फर्जी एलओयू स्विफ्ट चैनल के जरिए भेजे गए थे और इसके लिए सक्षम अधिकारियों की मंजूरी व कानूनी दस्तावेज के बिना भेजे गए थे। साथ ही इसे बैंंक के कोर बैंकिंग सिस्टम में शामिल नहीं किया गया था।
 
पीएनबी ने कहा, अब स्विफ्ट संदेश पूरे बैंक के लिए तीन स्तरीय ढांचे मेकर, चेकर ऐंड वेरिफायर के जरिए भेजे जाते हैं। सभी छोटी शाखाएं अब केंद्रीय ट्रेड प्रोसेसिंग सेंटर का इस्तेमाल करेगा। भारत में बीबीवीए के कार्यकारी निदेशक व मुख्य प्रतिनिधि जे अकीलन ने कहा, अच्छी रेटिंग और अच्छी तरह प्रबंधित बैंकों के साथ वैश्विक बैंकों के लिए पर्याप्त काउंटर सीमा को लेकर किसी तरह का मसला नहीं होगा ताकि द्विपक्षीय व्यापार जारी रहे और उनके क्लाइंटों को सेवा मिलती रहे। लेकिन बुरी तरह से प्रबंधित बैंकों के लिए शायद यह आसान नहीं होगा। 20 फरवरी 2018 को वैश्विक रेटिंग एजेंसियों फिच व मूडीज ने पीएनबी की रेटिंग को निगरानी के दायरे में रख दिया था।
कीवर्ड moodys, pnb,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक