एलओयू से जुड़े दस्तावेज चाल से मिले

एजेंसियां | नई दिल्ली Mar 01, 2018 09:56 PM IST

सीबीआई ने आज पंजाब नैशनल बैंक घोटाला मामले में तलाशी अभियान जारी रखा और दावा किया है कि लेटर ऑïफ अंडरटेकिंग (एलओयू) से जुड़े दस्तावेज बरामद किए हैं। अधिकारियों ने कहा कि हिरासत में लिए गए आरोपियों व अन्य व्यक्तियों से हुई पूछताछ से मिली सूचना के आधार पर तलाशी ली गई। ये दस्तावेज मुंबई के वडाला इलाके की एक चाल में छिपाए गए थे। माना जा रहा है कि यह इमारत नीरव मोदी की हो सकती है। कारोबारी व्यस्तता का हवाला देते हुए अरबपति ज्वैलर ने पूछताछ के लिए उपस्थित होने से मना कर दिया। सीबीआई ने बैंक के ऑडिटर को हिरासत में लिया और इसके आंतरिक मुख्य ऑडिटर एम के शर्मा (मुख्य महाप्रबंधक के रैंक के अधिकारी) को गिरफ्तार कर लिया। एजेंसी ने नीरव मोदी को पत्र लिखकर उसे उस देश के भारतीय दूतावास से संपर्क करने को कहा, जहां वह रह रहा है ताकि भारत आने के लिए तत्काल व्यवस्था की जा सके।
 
एसबीआई ने जब्त किए खाते
 
भारतीय स्टेट बैंक ने नीरव मोदी समूह की कंपनियों के तीन खाते जब्त कर लिए और इन खातों से जुड़ी सूचना जांच एजेंंसियों के साथ साझा की है। यह जानकारी बैंक के अधिकारियों ने दी। अधिकारी ने कहा, हमने आंतरिक जांच की और अपनी विदेशी शाखाओं में नीरव मोदी समूह की कंपनियों के तीन खाते पाए। ये खाते एसबीआई की दुबई, बहरीन और एंटवर्प शाखाओं में हैं। हालांकि बैंक ने कहा कि ये खाते सीधे तौर पर घोटाले से नहीं जुड़े हुए हैं।
 
यूनाइटेड बैंक की पूर्व सीएमडी का मामला
 
सीबीआई ने यूनाइटेड बैंक ऑफ इंडिया की पूर्व चेयरमैन व प्रबंध निदेशक अर्चना भार्गव के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति का मामला दर्ज किया है, जो उनकी आय के स्रोत से 3.6 करोड़ रुपये ज्यादा है। एजेंसी का आरोप है कि विभिन्न बैंकों में अपने कार्यकाल 2004 से 2014 के दौरान भार्गव ने 4.89 करोड़ रुपये की संपत्ति अर्जित की और 1.47 करोड़ रुपये खर्च किए जबकि उनकी आय 2.73 करोड़ रुपये थी। भार्गव साल 2008 में पीएनबी की उप महाप्रबंधक थी और 2008 में महाप्रबंधक बनी। 
 
जोखिम आधारित पर्यवेक्षण हर साल
 
पंजाब नैशनल बैंक (पीएनबी) ने इस बात से इनकार किया है कि भारतीय रिजर्व बैंक ने मुंबई में उसकी ब्रैडी हाउस शाखा का कोई ऑडिट नहीं किया है, जो नीरव मोदी ऋण घोटाला कांड को लेकर सुर्खियों में है। पीएनबी का कहना है कि भारतीय रिजर्व बैंक सालानाा आधार पर उसका जोखिम आधारित पर्यवेक्षण करता रहा है। पीएनबी ने एक बयान में कहा, यह स्पष्ट होना चाहिए कि रिजर्व बैंक सालाना आधार पर उसका जोखिम आधारित पर्यवेक्षण करता है। 
 
कर्ज मिलने में मुश्किल
 
पीएनबी में करोड़ों रुपये का घोटाला सामने आने के बाद बैंकों में बढ़ी सतर्कता से  उद्योगों के लिए साख-पत्र और ऋण गारंटी पत्र (एलओसी, एलयूटी) जारी करवाने में दिक्कतें हो रही हैं तथा खासतौर से लघु उद्योगों को कार्यशील पूंजी हासिल करने में परेशानी बढ़ी हैं। 
 
गीतांजलि जेम्स का शेयर टूटा
 
गीतांजलि का शेयर का आज इस खबर के बाद 5 फीसदी से ज्यादा टूट गया कि प्रवर्तन निदेशालय ने इसकी 1,200 करोड़ रुपये से ज्यादा की 41 परिसंपत्तियां जब्त की है। कंपनी का शेयर लोअर सर्किट यानी 5 फीसदी टूटकर 52 हफ्ते के निचले स्तर 20.30 रुपये को छू गया। इसके शेयर में लगातार 12वें सत्र में गिरावट दर्ज हुई। घोटाला सामने आने के बाद से यह शेयर 65.35 फीसदी टूट चुका है।  उधर, पीएनबी का शेयर मामूली टूटकर बीएसई पर 101.00 रुपये पर टिका। प्रवर्तन निदेशालय ने आज कहा कि उसने 1,200 करोड़ रुपये से ज्यादा की परिसंपत्तियां जब्त की है, जो पीएनबी घोटाले से जुड़ी है। ये संपत्तियां गीतांजलि जेम्स व इसके प्रवर्तक मेहुल चोकसी की हैं। ईडी ने पीएनबी के प्रबंध निदेशक व सीईओ सुनील मेहता के कार्यालय की भी आज जांच की। एजेंसी ने कहा, ये संपत्तियां मेहुल चोकसी, रोहन पार्थ, गीतांजलि एक्सपोर्ट कॉरपोरेशन, गीतांजलि जेम्स लिमिटेड, डीसेंट सिक्योरिटीज ऐंड फाइनैंस प्राइवेट लिमिटेड, एनऐंडजे फिनस्टॉक प्राइवेट लिमिटेड और रोहन मर्केंटाइल प्राइवेट लिमिटेड की हैं।
कीवर्ड nirav modi, bank, loan, debt, PNB, fraud,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक