बाजार में नकदी बढ़ाने की कवायद

अभिजित लेले | मुंबई Mar 05, 2018 10:29 PM IST

भारतीय रिजर्व बैंक इस महीने विशेष नीलामी के माध्यम से व्यवस्था में 1 लाख करोड़ रुपये डालेगा, जिससे कि नकदी की अतिरिक्त मांग पूरी हो सके। वित्त वर्ष की समाप्ति होने से बैंकों व कॉर्पोरेट्स की गतिविधियां तेज होने से मांग बढ़ी है। 
कोषागार के अधिकारियों ने कहा कि व्यवस्था में नकदी को लेकर पिछले कुछ पखवाड़ोंं से दबाव है। किसी दिन ऐसा भी रहा कि संसाधनों की आपूर्ति कम रही थी। रिजर्व बैंक ने नकदी की स्थिति तटस्थ के करीब रखी है।  लेकिन विशेष नीलामी आयोजित करने की इस घोषणा से व्यवस्था में अतिरिक्त संसाधन आएंगे, जिससे बदली हुई स्थिति से निपटा जा सके। गतिविधियां बढऩे और कर भुगतान के कारण नकदी की मांग बढ़ी है। साथ ही व्यवस्था में नकदी आने से कम अवधि की ब्याज दरों में तेज बढ़ोतरी से भी बचा जा सकेगा। 
पिछले महीने रिजर्व बैंक ने संकेत दिए थे कि वह उचित साधनों का इस्तेमाल कर पर्याप्त अतिरिक्त नकदी बढ़ाने की तैयारी कर रहा है, जबकि सामान्य तरलता समायोजन सुविधा (एलएएफ) ऑपरेशन जारी रहेगा।
रिजर्व बैंक ने आज एक बयान में कहा कि मौजूदा और  बैंकिंग व्यवस्था में नकदी की स्थिति की निकासी को देखते हुए यह फैसला किया गया है कि अतिरिक्त वैरिएबल रेट रीपो की सुविधा दी जाएगी, जिससे मार्च 2018 के दौरान बैंकों को नकदी का समर्थन मिल सके। इसके तहत मार्च 2018 मेंं 4 वैरिएबल रेट टर्म रीपो नीलामी का आयोजन होगा। प्रत्येक नीलामी में 250 अरब रुपये की राशि होगी। इसमें कहा गया है कि यह नीलामी नियमित 14 दिन के वैरिएबल रेट टर्म रीपो नीलामी के अतिरिक्त होगी। 
आय और कॉर्पोरेट कर का भुगतान महीने के मध्य (15 मार्च 2018) होने से नकदी का दबाव बनेगा। यह 2017-18 के लिए धन की अंतिम किस्त होगी, जो सरकार के खदाने में जाएगी, जो पहले की तीन तिमाहियोंं की तुलना मेंं ज्यादा रहने की उम्मीद है। 
इक्रा में फाइनैंशियल सेक्टर रेटिंग के ग्रुप हेड कार्तिक श्रीनिवासन ने कहा कि रिजर्व बैंक द्वारा 1 लाख करोड़ रुपये अतिरिक्त नकदी डालने से कम अवधि की ब्याज दरों पर लगाम लगाने में मदद मिलेगी और इससे शेष महीनों में भी दरों में उतार चढ़ाव पर लगाम लग सकेगी। 
एसपी जैन इंस्टीट्यूट आफ मैनेजमेंट ऐंड रिसर्च में एसोसिएट प्रोफेसर एसपी जैन ने कहा कि नीलामी के माध्यम से अतिरिक्त राशि डालने और बाजार में प्रतिभूतियोंं की परिपक्वता से धन आने से मांग पूरी की जा सकेगी। 
रिजर्व बैंक ने 15 फरवरी को कहा था कि व्यवस्था में इस समय अतिरिक्त नकदी है, ऐसे में वह तटस्थता की ओर कदम बढ़ा रहा है। अतिरिक्त मांग होने पर अतिरिक्त नकदी डाली जाएगी। 
कीवर्ड भारतीय रिजर्व बैंक, नीलामी,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक