पीएनबी के साये से बाजार में हड़कंप

बीएस संवाददाता | मुंबई Mar 06, 2018 10:27 PM IST

 पंजाब नैशनल बैंक (पीएनबी) में फर्जीवाड़े की जांच का दायरा बढऩे से मंगलवार को बाजार सदमे में आ गया। खबर है कि केंद्रीय जांच एजेंसियों ने फर्जीवाड़े की तहकीकात के सिलसिले में दो अग्रणी निजी बैंकों के अधिकारियों को तलब किया था। इन गतिविधियों के मद्देनजर बंबई स्टॉक स्टॉक एक्सचेंज (बीएसई) का सेंसेक्स 430 अंक फिसलकर 33,317.2 अंक के स्तर पर आ गया। 6 फरवरी के बाद सेंसेक्स में आई यह सबसे बड़ी गिरावट है। 
पीएनबी फर्जीवाड़े की आंच दूसरे बैंकों तक पहुंचने की आशंका से बाजार सहम गया। बैंकिंग शेयरों की हालत सबसे खराब रही और भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) और आईसीआईसीआई बैंक के शेयरों में लगभग 3 प्रतिशत तक की  कमी आई। 

बाजार में गिरावट पर इलारा कैपिटल में संस्थागत शोध प्रमुख रवि मूर्तिकृष्णन ने कहा, 'दो निजी बैंकों के शीर्ष अधिकारियों को पूछताछ के लिए बुलाए जाने से बाजार को झटका लगा है। फर्जीवाड़े का आकार बड़ा होने की आशंका के बीच कारोबार के आखिरी घंटे में सभी बैंकों के शेयरों के दम फूल गए। वैसे हमें लगता है कि निजी क्षेत्र के बैंकों को दिक्कत नहीं होगी। हां, सरकारी बैंकों पर दबाव जरूर बना रहेगा।'

दीगर बात है कि वैश्विक बाजारों में तेजी भी भारतीय बाजार को गिरने से नहीं थाम सकी। ज्यादातर एशियाई और यूरोपीय बाजारों में 1 प्रतिशत से अधिक की तेजी आई। हालांकि दिन में कारोबार के दौरान ज्यादातर समय बाजार ऊंचे स्तर पर रहा, लेकिन बैंकिंग शेयरों में अंतिम घंटे की बिकवाली ने जायका बिगाड़ दिया। 

कारोबार के दौरान सेंसेक्स 850 अंक तक उछल गया था, लेकिन बाद में कारोबार के दौरान 34,060 का स्तर छूने के बाद यह 743 अंक नीचे बंद हुआ। पिछले पांच कारोबारी सत्रों में सेंसेक्स 1,123 अंक या 3.3 प्रतिशत तक नीचे लुढ़क चुका है। एनएसई निफ्टी भी 1.1 प्रतिशत गिरकर 10,249 पर बंद हुआ। इस तरह, पिछले पांच कारोबारी सत्रों में निफ्टी में 3 प्रतिशत से अधिक गिरावट आ चुकी है। 
विदेशी संस्थागत निवेशक (एफपीआई) शुद्ध खरीदार रहे, जिन्होंने 6.2 अरब रुपये मूल्य के शेयरों की बिकवाली की। दूसरी तरफ घरेलू संस्थागत निवेशकों ने 7.4 अरब रुपये मूल्य के शेयर बेचे। पिछले कुछ कारोबारी सत्रों में घरेलू संस्थागत निवेशक बिकवाली करते दिखे हैं। 

मूर्तिकृष्णन ने कहा, 'मौजूदा घटनाक्रम के परिप्रेक्ष्य में बाजार निकट अवधि में नकारात्मक रुझान के साथ सीमित दायरे में कारोबार कर सकता है। निफ्टी 10,200 से नीचे आ सकता है। हालांकि  यह गिरावट एक तरह से निवेश का अवसर भी देती है।' कारोबारियों ने कहा कि फर्जीवाड़े ने निवेशकों के बीच अनिश्चितता का माहौल पैदा कर दिया है और वे हरेक तेजी के बाद बैंकों के शेयर बेच रहे हैं।
कीवर्ड पीएनबी, फर्जीवाड़े, बाजार, बंबई स्टॉक, स्टॉक एक्सचेंज, बीएसई,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक