पीएनबी घोटाले का आंकड़ा जाएगा 2 अरब डॉलर के पार

रॉयटर्स | मुंबई Mar 06, 2018 10:54 PM IST

देश के सरकारी बैंक पीएनबी में घोटाले का आंकड़ा 2 अरब डॉलर के पार जा सकता है। यह जानकारी सूत्रों और रॉयटर्स की तरफ से अदालती दस्तावेज के निरीक्षण से मिली।

 

सूत्रों ने कहा, जांच करने वालों ने अभी सभी कागजात व लोन गारंटी नहीं हासिल किए हैं, जो कथित तौर पर बैंक के कर्मचारियों ने जारी किए थे, ऐसे में माना जाता है कि घोटाले का आंकड़ा अब तक हुए खुलासे के मुकाबले काफी ज्यादा हो सकता है।

पीएनबी घोटाले को देश के बैंकिंग इतिहास का सबसे बड़ा घोटाला माना जा रहा है और पीएनबी व पुलिस ने दो आभूषण समूहों नीरव मोदी के नियंत्रण वाली कंपनियों व मेहुल चोकसी के नियंत्रण वाली कंपनियों को इसमें आरोपी बनाया है। बैंक कर्मियों की मिलीभगत से इन्होंने विदेशी बैंकों से कर्ज हासिल कर लिए, जिसमें फर्जी गारंटी का इस्तेमाल किया गया।

चोकसी व मोदी ने आरोपों से इनकार किया है और इनके वकीलों ने इस मामले में पीएनबी के कर्मचारियों को अभियुक्त बताया है और कहा है कि वे निर्दोष हैं।

अदालत के दस्तावेज के मुताबिक, मोदी के नियंत्रण वाली तीन कंपनियों को अनुमानित तौर पर 64.98 अरब रुपये का कर्ज मिला, वहीं चोकसी की फर्मों को 61.38 अरब रुपये मिले।

सीबीआई ने मुंबई की अदालत को बताया है कि सूत्रों व अदालती दस्तावजे के मुताबिक, मोदी की कंपनियों से जुड़ी रकम बढ़ सकती है। एजेंसी ने अदालत से कहा कि हमारी जांच में पाया गया है कि फर्जी एलओयू बैंक की मुंबई शाखा से जारी हुए और यह साल 2010 से चल रहा था।

सोमवार को जमा कराए गए दस्तावेज में सीबीआई ने कहा है कि पीएनबी के पास एलओयू से जुड़े सभी दस्तावेज नहीं हैं क्योंकि ये देनदार को लौटा दिए गए थे। सीबीआई ने कहा, ज्यादातर दस्तावेज अभी मिलने बाकी हैं। घोटाले का आकार बड़ा हो गया है और यह और बढ़ सकता है। इस बारे में पीएनबी ने मंगलवार को रॉयटर्स द्वारा घोटाले की रकम से जुड़े सवाल पर टिप्पणी नहीं की।
कीवर्ड सरकारी बैंक, पीएनबी, मेहुल चोकसी,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक