पीएनबी के अलावा किसी ने जारी नहीं किया अनाधिकृत गारंटीपत्र : एसबीआई अधिकारी

भाषा | नई दिल्ली Mar 15, 2018 05:28 PM IST

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया( एसबीआई) के एक वरिष्ठ अधिकारी ने आज यहां कहा कि पंजाब नैशनल बैंक (पीएनबी) को छोड़ किसी भी अन्य सार्वजनिक बैंक ने अनाधिकृत गारंटीपत्र जारी नहीं किया है। उन्होंने कहा कि सभी सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों ने अपने गारंटीपत्रों की जांच कर ली है। उल्लेखनीय है कि भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी और उसके चाचा मेहुल चोकसी द्वारा पीएनबी को गारंटीपत्रों के जरिये करीब 13 हजार करोड़ रुपये का चूना लगाने का मामला पिछले महीने सामने आया था। रिजर्व बैंक ने इस सप्ताह सभी बैंकों को आयात के लिए गारंटीपत्र एवं आश्वस्तिपत्र जारी करने से रोक लगा दी है।

सार्वजनिक बैंकों के सभी मुख्य तकनीकी अधिकारी तथा मुख्य जोखिम अधिकारी यहां एक कार्यशाला में भाग ले रहे हैं। यह कार्यशाला परिचालन एवं प्रौद्योगिकी जोखिम प्रबंधन के मुद्दे पर भारतीय स्टेट बैंक के समन्‍वय से आयोजित हुई है। स्टेट बैंक के उप-प्रबंध निदेशक एमएस शास्त्री ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि सभी बैंकों ने गारंटीपत्रों और आश्वस्तिपत्रों से संबंधित सारे लेन-देन की जांच कर ली है। बैंकों ने बताया है कि इन लेन-देन का अच्छे से आकलन कर लिया गया है। उन्होंने कहा है कि ये वैध हैं तथा इनकी लेखा-परीक्षा की जा चुकी है।

उन्होंने कहा कि इसके अलावा नियंत्रण को भी और मजबूत किया गया है जिसमें स्विफ्ट से जारी होने वाले संदेशों की स्वीकृति के लिए अतिरिक्त स्तर 30 अप्रैल, 2018 तक स्विफ्ट का कोर बैंकिंग प्रणाली के साथ एकीकरण और इस तरह के लेन देन के लिए सुबह 9 बजे से शाम 8 बजे तक का समय निर्धारित करना शामिल है। चर्चित पीएनबी घोटाले में उसकी मुंबई की एक शाखा ने नीरव मोदी की कंपनियों को मार्च 2011 के बाद से 1,213 गारंटीपत्र जारी किए थे। सीबीआई, ईडी समेत विभिन्न जांच एजेंसियां इस घोटाले की जांच कर रही है।

कीवर्ड पीएनबी, गारंटीपत्र, एसबीआई, नीरव मोदी, मेहुल चोकसी, रिजर्व बैंक, स्विफ्ट, बैंक घोटाला,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक