'निजी बैंकों की भागीदारी 5 साल में होगी 50 फीसदी'

रोमिता मजूमदार | मुंबई Mar 20, 2018 10:03 PM IST

इन्फोसिस के चेयरमैन नंदन नीलेकणी के साथ मीडिया वार्ता में कोटक महिंद्रा के कार्यकारी वाइस-चेयरमैन उदय कोटक ने कहा कि सभी बैंकिंग प्रणालियों में प्रौद्योगिकी पर तेजी से अमल होने से निजी क्षेत्र के बैंकों को अगले पांच साल के दौरान अपनी बाजार भागीदारी मौजूदा 30 प्रतिशत से बढ़ाकर 50 प्रतिशत करने में मदद मिलेगी। कोटक ने आज अपनी डिजिटल-फस्र्ट ऑर्गेनिक ग्रोथ स्टे्रटेजी की घोषणा की जो उसके 'एबीसीडी चार्टर' द्वारा केंद्रित होगी। उदय कोटक ने कहा, 'भारत में वर्ष 2030 तक 10 लाख करोड़ डॉलर की अर्थव्यवस्था बनने की क्षमता मौजूद है। मेरा मानना है कि अगले पांच साल के दौरान, निजी क्षेत्र के बैंक अपनी बाजार भागीदारी मौजूदा 30 फीसदी से बढ़ाकर 50 फीसदी कर सकते हैं।'
 
उन्होंने जोर देकर कहा कि कोटक महिंद्रा के 811 अकाउंट से बैंक को 9 महीने की अवधि में अपना ग्राहक आधार 80 लाख से बढ़ाकर 1.2 करोड़ करने में मदद मिली है और भारत की मोबाइल ट्रांजेक्शन वैल्यू में बैंक की 8 प्रतिशत भागीदारी है। 811 जीरो-चार्ज डिजिटल बैंक अकाउंट है जिसे मार्च 2017 में शुरू किया गया था। यह अकाउंट आधार-केंद्रित प्रमाणन पर आधारित है। यूनिक आइडेंटिफिकेशन डेटाबेस अथॉरिटी ऑफ इंडिया (यूआईडीएआई) पहल के संस्थापक चेयरमैन नीलेकणी ने कहा, 'आधार के साथ हम एक ऐसा डिजिटल आईडी प्लेटफॉर्म बनाने के लिए तैयार हैं जो एक अरब से अधिक भारतीय निवासियों को बेहद तेज गति से और सुगमता से सेवाओं तक पहुंच में सक्षम बनाएगा। यह देखना दिलचस्प है कि कोटक 811 के जरिये बैंकिंग उद्योग कई दिनों के बजाय महज कुछ मिनटों में बैंक खाता खोलने के लिए आधार का लाभ उठाने में सक्षम रहा है।'
 
(कोटक महिंद्रा और उसकी सहायक कंपनियां बिजनेस स्टैंडर्ड प्राइवेट लिमिटेड में प्रमुख शेयरधारक हैं) 
कीवर्ड infosys, आईटी सेवा प्रदाता इन्फोसिस,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक