आईसीआईसीआई पर जुर्माना लगा

अनूप रॉय | मुंबई Mar 29, 2018 10:03 PM IST

आईसीआईसीआई बैंक पर भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) द्वारा उसकी हेल्ड टु मैच्युरिटी (एचटीएम) श्रेणी से प्रतिभूतियों की बिक्री करने के लिए 58.9 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है।  इस श्रेणी में प्रतिभूतियों को परिपक्वता के अंत में भुनाया जाता है और इनकी ट्रेडिंग नहीं होती है। इसलिए इनमें मार्क टु मार्केट (एमटीएम) नुकसान नहीं होता है। इन प्रतिभूतियों में अन्य दो पोर्टफोलियो हैं - अवेलेबल फॉर सेल्स (एएफएस) और हेल्ड फॉर ट्रेडिंग (एचएफटी), जिनमें कारोबार होता है, और इसलिए एमटीएम-संबंधित मूल्यांकन के लिए जिम्मेदार हैं। आरबीआई बैंकों को साल में एक बार एक निवेश श्रेणी से दूसरी में जाने की अनुमति देता है, खासकर वित्त वर्ष के शुरू में। एचटीएम श्रेणी को बैंक की ऋण शोधन क्षमता के मापक के तौर पर देखा जाता है। बैंक की कम से कम 20 प्रतिशत जमाओं को बॉन्डों की इस श्रेणी में रखा जाना चाहिए।
 
इसलिए एचटीएम से प्रत्यक्ष रूप से बिक्री नियमों का उल्लंघन है। आरबीआई ने कहा है, 'यह कदम नियामकीय अनुपालन में खामियों पर आधारित है।' आईसीआईसीआई ने कहा है कि उसने गलतफहमी की वजह से तय सीमा से अधिक एचटीएम श्रेणी से बिक्री की थी। बैंक का कहना है कि उसने नियामकीय अनुपालन को महत्व दिया है और आरबीआई द्वारा जारी सभी निर्देशों, दिशा-निर्देशों और आपत्तियों के साथ अनुपालन सुनिश्चित करने की कोशिश की है। ऋणदाता ने कहा है कि एक बैंक एचटीएम श्रेणी से बिक्री कर सकता है, लेकिन यदि प्रतिभूतियों की बिक्री का मूल्य एचटीएम निवेश के 5 प्रतिशत से अधिक हो तो उसे इन निवेश के सालाना ऑडिटेड वित्तीय ब्यौरे इसका खुलासा करने की जरूरत होती है। बैंक को यह भी बताने की जरूरत होती है कि एचटीएम निवेश का बाजार मूल्य क्या था और बही-खाते पर दर्ज मूल्य एवं बाजार मूल्य में क्या अंतर था।
 
बैंक ने 31 मार्च 2017 को समाप्त तिमाही के दौरान कुछ सप्ताह तक एचटीएम श्रेणी से लगातार बिक्री की थी। बैंक ने वित्त वर्ष 2017 के लिए अपनी सालाना रिपोर्ट में खुलासा किया था कि उसने एचटीएम के रूप में श्रेणीबद्घ निवेश का 5 प्रतिशत से ज्यादा हिस्सा बेचा। लेकिन उसने उस समय निर्दिष्टï अतिरिक्त खुलासा नहीं किया था।  बैंक 30 जून 2017 को समाप्त तिमाही के बाद से विशेष खुलासा करता रहा है। इस खुलासे में कहा गया है कि चालू वित्त वर्ष में आईसीआईसीआई ने अपने एचटीएम पोर्टफोलियो  से पांच प्रतिशत से कम प्रतिभूतियां बेचीं। 
कीवर्ड ICICI, RBI, HTM,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक