'मुझे नहीं लगता बाजार में तेज गिरावट आएगी'

ऐश्ली कुटिन्हो |  Mar 30, 2018 09:42 PM IST

ऐक्सिस म्युचुअल फंड के मुख्य कार्याधिकारी चंद्रेश निगम ने कहा है कि देसी निवेशक भारतीय इक्विटी बाजार में अहम भागीदार बन गए हैं। ऐश्ली कुटिन्हो को दिए साक्षात्कार में उन्होंने कहा, जब तक निवेश की प्रक्रिया रफ्तार नहीं पकड़ती अल्फा का सृजन और मुश्किल होगा। उनसे बातचीत के मुख्य अंश...

 
म्युचुअल फंड उद्योग का कुल आकार 22 लाख करोड़ रुपये का है और इक्विटी संपत्ति 8 लाख करोड़ रुपये से ज्यादा का है। उद्योग का आकार बढ़ा है, लिहाजा आप किस तरह का बदलाव देख रहे हैं?
 
उद्योग का बड़ा आकार फंडामेंटल के लिहाज से कई बदलाव लाएगा। इसमें से कुछ का रेखांकन इस तरह किया जा सकता है, देसी निवेशक अब विदेशी निवेशकों के मुकाबले इक्विटी बाजार में अहम भागीदार बन गए हैं और कंपनी के प्रबंधन ने इसे स्वीकारना शुरू कर दिया है। ऋण बाजार में भी ऐसी ही प्रवृत्ति है, जहां कंपनियां एक महत्वपूर्ण क्षेत्र के तौर पर म्युचुअल फंडों के प्रति जागरूक हैं और इसका फायदा उठाया जाना चाहिए। ये चीजें शोध व निवेश की खातिर उद्योग की निवेश टीम की क्षमता में सुधार ला रही हैं। दूसरी ओर, फंडों का बड़ा आकार फंड हाउस को नकदी आदि को लेकर और सतर्क बना रहा है। जब तक निवेश की प्रक्रिया मजबूत नहीं होती, अल्फा का सृजन ज्यादा मुश्किल होगा।
 
बाजार नियामक सेबी ने योजनाओं की श्रेणियों के लिए नियम लागू किए हैं। क्या यह सही दिशा में उठाया गया कदम है?
 
अगर आप निवेशक के नजरिये से विचार करें तो कई योजनाएं सही मायने में भयभीत करने वाली है और इनमें से ज्यादातर लंबी अवधि वाले खुदरा निवेशकों के लिए शायद प्रासंगिक नहीं होगा। एकीकरण निश्चित तौर पर सही दिशा में उठाया गया कदम है। यह निवेशकों को किसी योजना के मकसद को समझना आसान बना देगा और सही समूह के साथ तुलना भी। संपत्ति प्रबंधन कंपनियों को फंडों के प्रबंधन में और अनुशासन बरतना होगा क्योंकि किसी एक क्षेत्र में वे अब कई फंडों पर भरोसा नहीं कर सकते।
 
ऐक्सिस म्युचुअल फंड के पास करीब 700 अरब रुपये की परिसंपत्तियां है। सबसे बड़े फंड हाउस के पास आपके मुकाबले दोगुनी से ज्यादा परिसंपत्तियां हैं। आगामी वर्षों में आप किस तरह की बढ़त की योजना बना रहे हैं?
 
आज हमारे पास सबकुछ है जिससे हम सबसे बड़ी कंपनी को चुनौती दे सकते हैं, चाहे वह पूर्ण व सही तरीके से पारिभाषित प्रॉडक्ट बास्केट हो, हमारी योजनाओं के मजबूत प्रदर्शन की बात हो या ब्रांड की बात हो और देश भर में पहुंच की बात हो। इस साल हमारा मूल मकसद यह सुनिश्चित करना है कि बढ़ी हुई सकल बिक्री में हमें सही हिस्सा मिले। अगर हम ऐसा कर लेते हैं तो समय के साथ हम संपत्ति के लिहाज से बड़ी कंपनियों के बराबर पहुंच सकते हैं।  आगामी तिमाहियों में हम रियल एस्टेट के क्षेत्र में उतरने पर विचार कर रहे हैं।
 
इस साल के लिए बाजार को लेकर आपका क्या नजरिया है?
 
इक्विटी बाजार ने 2017 के मुकाबले साल 2018 में उच्च उतारचढ़ाव के साथ शुरुआत की। साल 2017 के फायदे को देखते हुए यह आश्चर्यजनक नहीं है। लंबी अवधि को लेकर हम सकारात्मक बने हुए हैं और आय की दिशा को देखते हुए मुझे नहीं लगता कि बाजार में तेज गिरावट आएगी। सरकारी प्रतिभूतियों की बिकवाली के लिहाज से पिछले 12 महीने में बॉन्ड बाजार को झटका लगा है। मुझे लगता है कि कुछ हद तक बाजार ज्यादा चढ़ा है, हालांकि हमारा मानना है कि जोखिम-प्रतिफल के लिहाज से मध्यम अवधि के कॉरपोरेट बॉन्डों के लिए रकम आवंटन करने का मतलब बनता है।
कीवर्ड axis bank, fund,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक