गीतांजलि जेम्स बढ़ाएगी एनपीए बोझ

एजेंसियां | नई दिल्ली Apr 15, 2018 09:54 PM IST

बैंकिंग क्षेत्र की गैर-निष्पादित परिसंपत्तियों (एनपीए) में घोटाला प्रभावित कंपनी गीतांजलि जेम्स के कारण 31 मार्च को समाप्त तिमाही में कम से कम 8,000 करोड़ रुपये का इजाफा होने वाला है।  सूत्रों ने कहा कि  बैंकों को पिछले वित्त वर्ष की अंतिम तिमाही के लिए सिर्फ गीतांजलि जेम्स को लेकर 8,000 करोड़ रुपये के प्रावधान करने होंगे। पिछले वित्त वर्ष की चौथी तिमाही के दौरान एनपीए बनने वाले बड़े ऋण खातों में गीतांजलि भी शामिल है।  दिसंबर तिमाही तक बैंकों का समग्र एनपीए 8,40,958 करोड़ रुपये था। इसमें सर्वाधिक हिस्सेदारी औद्योगिक ऋण की थी। 
 
ब्रैडी हाउस शाखा के ऑडिटरों को नोटिस 
 
भारतीय सनदी लेखा संस्थान (आईसीएआई) ने पंजाब नैशनल बैंक (पीएनबी) की ब्रैडी हाउस शाखा के सांविधिक ऑडिटरों को नोटस भेजकर उसके अनुशासन बोर्ड के समक्ष पेश होने को कहा है। पीएनबी की इसी शाखा में नीरव मोदी से संबंधित 13,000 करोड़ रुपये का घोटाला हुआ है।  चार्टर्ड अकाउंटेंट के शीर्ष संस्थान ने 2011-12 से 2016-17 तक के  सांविधिक ऑडिटरों की सूची बनाई है और उन्हें अपनी अनुशासन बोर्ड के समक्ष पेश होने को कहा है। सांविधिक ऑडिटर आईसीएआई के सदस्य होते हैं और वही इनकी निगरानी करता है। आईसीएआई के सदस्य बी एस जावारे ने कहा कि आईसीएआई ने चार्टर्ड अकाउंटेंट कानून, 1949 के तहत ब्रैडी हाउस शाखा के सांविधिक ऑडिटरों को नोटिस जारी किया है। 
कीवर्ड bank, loan, debt, geetanjali,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक