आईसीआईसीआई बैंक का लाभ घटा

एजेंसियां | मुंबई May 07, 2018 09:38 PM IST

देश में निजी क्षेत्र के सबसे बड़े बैंक आईसीआईसीआई बैंक का संचयी शुद्घ मुनाफा 31 मार्च, 2018 को समाप्त तिमाही में पिछले साल की समान तिमाही के मुकाबले 45 फीसदी घटकर 1,142 करोड़ रुपये रहा। इससे पिछले वित्त वर्ष की समान तिमाही में बैंक को 2,083 करोड़ रुपये का मुनाफा हुआ था। एकल आधार पर बैंक का शुद्घ मुनाफा 50 फीसदी घटकर 1,020 करोड़ रुपये रहा, जो एक साल पहले की समान तिमाही में 2,025 करोड़ रुपये था। मार्च तिमाही में बैंक का प्रावधान 128.61 फीसदी बढ़कर 6,625.75 करोड़ रुपये हो गया, जो इससे पिछले साल की समान तिमाही में 2,898.22 करोड़ रुपये था।
 
बीते वित्त वर्ष की चौथी तिमाही में आईसीआईसीआई बैंक का सकल गैर-निष्पादित आस्तियां (एनपीए) दिसंबर तिमाही के 7.82 फीसदी से बढ़कर 8.84 फीसदी हो गया। मार्च 2017 तिमाही में बैंक का एनपीए 7.89 फीसदी था। एकल आधार पर शुद्घ ब्याज आय करीब 1 फीसदी बढ़कर 6,921.67 करोड़ रुपये रही, जो एक साल पहले की समान तिमाही में 5,962.16 करोड़ रुपये थी। शुद्घ ब्याज मार्जिन भी 3.14 फीसदी से बढ़कर 3.24 फीसदी पहुंच गया। बैंक के निदेशक मंडल ने प्रति शेयर 1.50 रुपये लाभांश देने की सिफारिश की है। कंपनी का नतीजा आईसीआईसीआई बैंक द्वारा कुछ कंपनियों को कर्ज देने में अनियमितता के आरोपों के बीच जारी किया गया है।
 
आरोपों पर बैठक में नहीं हुई चर्चा
 
आईसीआईसीआई बैंक की प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्याधिकारी चंदा कोछड़ द्वारा हितों के टकराव को लेकर आरोपों के बावजूद बैंक बोर्ड की बैठक में आज इस पर चर्चा नहीं हुई। बोर्ड बैठक में आरोपों पर चर्चा के बारे में पूछे जाने पर कोछड़ ने कहा, 'बोर्ड ने अपना रुख पहले ही स्पष्टï कर दिया है और आज तिमाही नतीजों पर बैठक बुलई गई थी। ऐसे में आरोपों को लेकर कोई चर्चा नहीं की गई।' कोछड़ ने यह भी कहा कि सरकार की ओर से नामित वित्तीय सेवा विभाग के संयुक्त सचिव लोक रंजन ने बोर्ड की बैठक में हिस्सा नहीं लिया। उन्होंने कहा कि बोर्ड की बैठक मंगलवार को भी होगी, जिसमें नियमित कामजार पर चर्चा की जाएगी। इस दौरान राजकोषीय लक्ष्यों की रणनीति तय की जानी है। 
 
बैंक की छवि को नुकसान पहुंचने के बारे में पूछे जाने पर कोछड़ ने कहा कि वित्त वर्ष 2018 में जमा में 18 फीसदी की वृद्घि हुई है। हितों के टकराव को लेकर मीडिया में खबर आने के दिन ही आईसीआईसीआई बैंक बोर्ड ने बयान जारी कर कोछड़ का समर्थन किया था। कथित आरोपों को लेकर सीबीआई और आयकर विभाग विभिन्न पहलुओं की जांच कर रहा है।
कीवर्ड ICICI, bank, profit, Q4,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक