वित्तीय प्रणाली में मजबूत भागीदार होंगी मोबाइल वॉलेट कंपनियां : पेटीएम

भाषा | नई दिल्‍ली Oct 27, 2017 06:09 PM IST

भारतीय रिजर्व बैंक की प्रीपेड भुगतान सेवाओं को बैंक खाते से वॉलेट में असीमित धन हस्तांतरण सहित कुछ और अनुमतियां देने के दिशानिर्देशों के चलते मोबाइल वॉलेट कंपनियां वित्तीय प्रणाली में मजबूत भागीदार के रूप में उभरेंगी। पेटीएम पेमेंट्स बैंक की एक शीर्ष अधिकारी ने यह बात कही। पेटीएम पेमेंट्स बैंक की प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्याधिकारी रेनू सत्ती ने कहा कि इस महीने जारी रिजर्व बैंक के दिशानिर्देशों के अनुसार मोबाइल वॉलेट के पास और अधिक सुविधाएं आ गईं हैं। जैसे कि बैंक खाते और मोबाइल वॉलेट के बीच कोष का असीमित हस्तांतरण करना और उच्च सीमा में एक लाख रुपये तक लाभार्थी के खाते में अंतरण करना इत्यादि।

उन्होंने कहा कि पेटीएम पेमेंट्स बैंक के हिस्से के तौर पर ग्राहकों को वॉलेट की सुविधा मिलेगी और वह अपनी रकम को वॉलेट से भुगतान बैंक में भेजकर जमा राशि पर ब्याज भी कमा सकेंगे। रेनू ने कहा, यह मोबाइल वॉलेट के कारोबार को और मजबूत करेगा और वित्तीय प्रणाली में उन्हें एक मजबूत खिलाड़ी बनाएगा। पेटीएम के पास 27 करोड़ पंजीकृत वॉलेट उपयोक्ता हैं। हालांकि, मोबाइल वॉलेट कंपनियों को केवाईसी (अपने ग्राहक को जानो) प्रक्रिया को पूरा करना होगा जो एक बड़ी चुनौती है और इसके लिए उन्हें अतिरिक्त निवेश भी करना होगा। नए नियमों के अनुसार मोबाइल वॉलेट कंपनियों को 12 माह के भीतर ग्राहक का पूरा केवाईसी करना होगा। अभी ये कंपनियां न्यूनतम केवाईसी को अपनाती हैं जिसमें मोबाइल नंबर की पुष्टि की जाती है।
कीवर्ड भागीदार, मोबाइल वॉलेट, पेटीएम, रिजर्व बैंक, प्रीपेड भुगतान सेवा, बैंक खाता,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक