होम » Commodities
«वापस

कच्चे तेल के 'छींटे' सिंथेटिक कपड़ा विनिर्माण पर

दिलीप कुमार झा | मुंबई Nov 08, 2017 09:52 PM IST

कच्चे तेल के दामों में तेज बढ़ोतरी की वजह से सिंथेटिक कपड़ा विनिर्माताओं के लिए कच्चा माल पिछले महीने दो से पांच प्रतिशत तक महंगा हो गया है। हाजिर डिलिवरी में बे्रंट क्रूड के दाम एक महीने के दौरान 15.2 प्रतिशत बढ़कर 64.12 डॉलर प्रति बैरल हो गए हैं। सऊदी अरब की घटना और अमेरिका-उत्तर कोरिया के भू-राजनीतिक तनाव में वृद्धि के बाद दामों मे तेजी आई है। प्यूरिफाइड टेरेफ्थैलिक एसिड (पीटीए) कच्चे तेल का एक यौगिक होता है और पॉलिएस्टर फाइबर में काम आता है। मंगलवार को इसके दाम 692 डॉलर प्रति टन थे। इस तरह अकेले नवंबर में ही इसमें 4.5 प्रतिशत का इजाफा हुआ। नवंबर में एमईजी (मोनो एथिलीन ग्लाइकॉल) 2.8 प्रतिशत तक महंगा होकर मंगलवार को 928 डॉलर प्रति टन हो गया। इसी तरह अन्य कच्चा माल भी महंगा हो गया है।
 
भारत में रंगीन धागे की सबसे बड़ी विनिर्माता सतलज टेक्सटाइल्स ऐंड इंडस्ट्रीज के अध्यक्ष एसके खंडेलिया ने कहा कि कच्चे तेल की कीमतों में वृद्धि के कारण पॉलिएस्टर रेशे की कीमत पिछले दो महीनों में 10 प्रतिशत तक बढ़कर 82 रुपये प्रति किलोग्राम हो चुकी है। पीईटी (पॉलिथिलिन टेरेफथैलेट) की बोतलों से उत्पादित रिसाइकल्ड पॉलिएस्टर रेशे के सबसे बड़े उत्पादक चीन ने ऐसी बोतलों की खरीद बंद कर दी है, जिसके फलस्वरूप उनके रेशे विनिर्माण संयंत्रों के लिए कच्चे माल में कमी आई है। इस कारण रिसाइकल्ड पॉलिएस्टर रेशे के दाम बढ़ गए हैं। प्लास्टिक की कंपनियों पर भी इसका असर पड़ा है। 
 
देश की सबसे बड़ी पॉलिएस्टर विनिर्माता इंडो रामा सिंथेटिक्स को सितंबर तिमाही में 17.7 करोड़ रुपये का शुद्ध घाटा हुआ, जबकि पिछले साल की समान तिमाही में इसे 14.7 करोड़ रुपये का घाटा हुआ था। इंडो रामा के अध्यक्ष ओपी लोहिया ने कहा कि कुछ उत्पादों पर जीएसटी (वस्तु एवं सेवा कर) की दर 18 प्रतिशत से कम करके 12 प्रतिशत कर दी गई, जिससे हमें राहत मिली। कच्चे तेल के बढ़ते दामों के कारण कच्चे माल की कीमतों में दो से पांच फीसदी तक की बढ़ोतरी हुई है। हमें अल्पावधि में कच्चे माल की कीमतों में और वृद्धि होने की संभावना लग रही है। लेकिन पॉलिएस्टर उत्पादों की बढ़ती मांग की वजह से हम कच्चे माल की कीमतों के इस इजाफे को उपभोक्ताओं पर डाल सकते थे।
कीवर्ड cruid oil, price, dollar, textiles,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक