होम » Commodities
«वापस

भारत में सोने की मांग 24 प्रतिशत गिरकर हुई 145.9 टन : विश्‍व स्‍वर्ण परिषद

भाषा | मुंबई Nov 09, 2017 12:17 PM IST

भारत में सोने की मांग वर्ष 2017 की तीसरी तिमाही में 24 प्रतिशत गिरकर 145.9 टन रही है। वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल (विश्‍व स्‍वर्ण परिषद) की एक रपट में यह बात सामने आई है। वर्ष 2016 की जुलाई-सितंबर तिमाही में यह मांग 193 टन थी। रपट के अनुसार इसकी प्रमुख वजह वस्‍तु एवं सेवाकर (जीएसटी) का लागू किया जाना है। साथ ही आभूषणों के खुदरा लेनदेन को लेकर धनशोधन रोधी कानूनों को अमल में लाए जाने से भी खरीदारों ने इससे दूरी बनाए रखी। समीक्षावधि में मूल्य के आधार पर आभूषण की मांग 31 प्रतिशत घटकर 30,340 करोड़ रुपये रही है जो वर्ष 2016 की समान अवधि में 43,880 करोड़ रुपये थी। कुल निवेश मांग 23 प्रतिशत घटकर 31 टन रही जो पिछले साल इसी दौरान 40.1 टन थी। मूल्य के आधार पर इसमें 29 प्रतिशत की गिरावट देखी गई और यह 8,200 करोड़ रुपये रही जो इससे पिछले वित्त वर्ष की इसी अवधि में 11,520 करोड़ रुपए थी।

वर्ष 2017 की तीसरी तिमाही में भारत में कुल 26.7 टन सोने का पुनर्चक्रण किया गया जो 2016 की इसी अवधि में 25.7 टन था। वर्ल्ड गोल्ड काउंसिल के भारत में प्रबंध निदेशक सोमसुंदरम पीआर ने कहा, भारत की सोने की मांग में 2017 की तीसरी तिमाही में 24 प्रतिशत की गिरावट देखी गई है। इसकी वजह जीएसटी और आभूषण के खुदरा लेनदेन को लेकर धनशोधन रोधी कानूनों को लागू किए जाने से खरीदारों का खरीद से दूर रहना है। उन्होंने कहा कि लगातार तीन तिमाहियों में वृद्धि के बाद आभूषण की मांग में 25 प्रतिशत की गिरावट आई है जबकि सोने की छड़ और सिक्कों की मांग भी 23 प्रतिशत घटकर 31 टन रही है। उन्होंने कहा कि 2016 में पारदर्शिता को बढ़ावा देने के लिए कई कदम उठाए गए जिसके बाद 2017 में पूरे साल के लिए हमारा अनुमान सोने की मांग 650 से 700 टन रहने का है। यह पांच वर्ष के औसत से कम है। वर्ष 2018 में मांग बेहतर रहने की उम्मीद है।

कीवर्ड सोने की मांग, विश्‍व स्‍वर्ण परिषद, तीसरी तिमाही, डब्‍ल्‍यूजीसी, रिपोर्ट, जीएसटी, निवेश,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक