होम » Commodities
«वापस

फिर से जोर पकड़ेगा चमड़ा उद्योग

बीएस संवाददाता | कानपुर Nov 27, 2017 10:05 PM IST

निर्यात के मोर्चे पर तेजी से फिसल रहे कानपुर के चमड़ा उद्योग को जीएसटी दर में कमी से फिर से जोर पकडऩे की उम्मीद जगी है। जानकारों का कहना है कि जीएसटी घटने से कारोबार करना आसान होगा। इसके अलावा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर उत्पाद प्रतिस्पर्धी बने रहेंगे। इससे उत्पादों की बिक्री और मांग बढऩे की उम्मीद रहेगी। चर्म निर्यात परिषद के वरिष्ठ पदाधिकारी और कारोबारी ने बताया कि पिछले तीन वर्षों में निर्यात में नकारात्मकता आ रही है। वित्तीय वर्ष 2015-16 में जहां निर्यात 6,430 करोड़ रुपये का था वहीं वर्ष 2016-17 में यह घटकर 6,200 करोड़ रुपये का रह गया। 
 
इस वित्तीय वर्ष में निर्यात का अबतक का आंकड़ा करीब 1,400 करोड़ रुपये का है। ऐसे में पिछले वर्षों के निर्यात को बनाए रखना चुनौती से कम नहीं है। इसके अलावा अब चीन के अलावा बांग्लादेश से भी कड़ी कारोबारी चुनौती और प्रतिस्पर्धा मिल रही है। जीएसटी की अधिक दर होने से इसमें और बढ़ावा हो गया था। हालांकि अब जीएसटी की दर में कमी से इन चुनौतियों को निपटना कुछ हद तक आसान हो सकेगा। उन्होंने बताया कि कर की दर से राहत मिलने से निर्यात बढ़ाया जा सकेगा।
कीवर्ड kanpur, lather, export,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक