होम » Commodities
«वापस

मैकलाउड रसेल ने कर्ज कम करने के लिए बेची हिस्सेदारी

अभिषेक रक्षित | कोलकाता Nov 30, 2017 09:59 PM IST

विश्व की सबसे बड़ी चाय उत्पादक कंपनी मैकलाउड रसेल ने खुले बाजार में अपनी 9.14 प्रतिशत हिस्सेदारी बेच कर 200 करोड़ रुपये जुटाए हैं। कंपनी इस रकम का इस्तेमाल अपने ऊपर कर्ज बोझ कम करने में करेगी। कंपनी पर फिलहाल 790.67 करोड़ रुपये कर्ज है। कंपनी के प्रवर्तकों खेतान परिवार और इससे संबद्ध निवेश एवं वित्तीय इकाइयों की 31 सितंबर, 2017 तक कंपनी में 49.89 प्रतिशत हिस्सेदारी थी। प्रवर्तकों की हिस्सेदारी में बोरेली टी होल्डिंग्स लिमिटेड (बीटीएचएल) के पास 24.73 प्रतिशत हिस्सा था। बीटीएचएल मैकलाउड रसेल की सहायक कंपनी है। 

 
मैकलाउड रसेल में निदेशक कमल किशोर बहेती ने बीटीएचएल के न्यासी के नाते ये शेयर रखे थे। गुरुवार को चाय शेयरों में दिन के कारोबार के दौरान जैसे ही 8 प्रतिशत से अधिक तेजी आई वैसे ही कंपनी ने अपने कुल 2,70,67,500 शेयरों में 100,00,000 शेयर बेच दिए। हिस्सेदारी बेचने का कारण पूछने पर बहेती ने बिज़नेस स्टैंडर्ड को बताया कि जुटाई गई रकम का इस्तेमाल कंपनी कर्ज कम करने में करेगी। यह हिस्सेदारी संस्थागत निवेशकों और दूसरे सामान्य निवेशकों को बेची गई है। हालांकि फिलहाल इसका ब्योरा उपलब्ध नहीं है।  
 
बहेती ने कहा कि मैकलाउड रसेल कर्ज कम करने के लिए हिस्सेदारी बेचने के बारे में सोच रही थी, लेकिन वह इसके लिए निवेशकों और सही मौके का इंतजार कर रही थी। उन्होंने कहा, 'हमने पहले भी हिस्सेदारी बेचने की कोशिश की थी, लेकिन इसके लिए निवेशकों में दिलचस्पी होनी जरूरी थी। चाय कंपनियों के शेयरों में निवेशकों का विश्वास एक बार फिर बढऩे के बाद हिस्सेदारी बेचने का यह उपयुक्त समय था।' 
 
गुरुवार को मैकलाउड रसेल का शेयर 7.12 प्रतिशत तेजी के साथ 234.60 रुपये पर बंद हुआ जबकि गुडरिक ग्रुप का शेयर 6.18 प्रतिशत छलांग लगाकर 510.50 रुपये पर बंद हुआ। रॉसेल इंडिया में भी 2.76 प्रतिशत तेजी आई और यह 132.10 रुपये प्रति शेयर के स्तर पर बंद हुआ। इस साल अगस्त में मैकलाउड रसेल ने कर्ज कम करने के लिए नुकसान में चल रही भाटपाड़ा टी एस्टेट बेच दी थी। इस बिक्री से कंपनी को 13.21 करोड़ रुपये मिले थे। 
कीवर्ड tea, bagan, चाय,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक