होम » Commodities
«वापस

मकर संक्रांति से शुरू होगा ग्वार विकल्प

सुशील मिश्र | मुंबई Jan 12, 2018 10:18 PM IST

लंबे समय से प्रतीक्षित कृषि जिंसों पर विकल्प सौदे की शुरुआत मकर संक्रांति के दिन 14 जनवरी से शुरू हो जाएगी। कमोडिटी एक्सचेंज नैशनल कमोडिटी और डेरिवेटिव्स एक्सचेंज लिमिटेड (एनसीडीईएक्स) पर मकर संक्रांति से ग्वार बीज का विकल्प अनुबंध कारोबार की शुरुआत वित्त मंत्री अरुण जेटली करेंगे। एक्सचेंज का दावा है कि कृषि जिंसों में ऑप्शंस (विकल्प) ट्रेडिंग शुरू होने से किसानों को फायदा होगा।  कृषि जिंसों में विकल्प टे्रडिंग की तैयारी एनसीडीईएक्स पिछले पांच महीने से कर रहा था। ग्वार बीज के विकल्प कारोबार की शुरुआत की जानकारी देते हुए एनसीडीईएक्स के प्रबंध निदेशक एवं सीईओ समीर शाह ने कहा कि इस नए हेजिंग टूल को प्रारंभ करने की अनुमति सेबी से पहले ही मिल चुकी थी, जो अब 14 जनवरी से शुरू होगा। इससे किसानों के लिए जोखिम का स्तर कम होगा और उन्हें अपने उत्पाद की बेहतर कीमतें मिल सकेंगी। यह ऑप्शंस कीमतों में गिरावट के दौरान किसानों को बचाने के साथ साथ कीमतों में बढ़ोतरी के दौरान उन्हें उच्च कीमतों पर अपने उत्पाद बेचने का अवसर प्रदान करेगा। इस तरह कीमतों में उतार-चढ़ाव के बावजूद यह टूल किसानों के लिए हर लिहाज से फायदेमंद साबित होगा। 
 
ग्वार बीज विकल्प के कारोबार की जानकारी देते हुए एनसीडीईएक्स के प्रवक्ता ने बताया कि आगामी फरवरी, मार्च और अप्रैल के महीनों में समाप्त होने वाले विकल्प अनुबंध कारोबार 14 जनवरी से ट्रेङ्क्षडग के लिए उपलब्ध होंगे। ग्वार बीज ऑप्शंस यूरोपीय शैली के होंगे, जो कि 50 पैसे प्रति क्विंटल के टिक साइज के होंगे। डेली प्राइस रेंज (डीपीआर) अंतर्निहित फ्यूचर्स अनुबंध और अस्थिरता के डीपीआर के कारकों पर आधारित है। विकल्प अनुबंध अंतर्निहित वायदा अनुबंध शुरू करने के बाद शुरू किए जाएंगे। एग्री ऑप्शंस की समाप्ति तिथि, महीने के अंतिम बुधवार को होगी जो कि वायदा अनुबंध की समाप्ति महीने से पहले होगी। यदि बुधवार को अवकाश होता है तो समाप्ति तिथि एक्सचेंज के अगले कारोबारी दिन को होगी। 
 
कमोडिटी में इसके पहले सोना विकल्प कारोबार की शुरुआत की गई है। सेबी ने कमोडिटी ऑप्शंस ट्रेङ्क्षडंग की मंजूरी पिछले साल जून में ही दे दी थी। इसके तहत सिर्फ एक ही अनुबंध को मंजूरी मिली है। सेबी की मंजूरी मिलने के एक महीने बाद देश के सबसे बड़े कमोडिटी एक्सचेंज एमसीएक्स ने अक्टूबर 2017 में गोल्ड ऑप्शंस की शुरुआत की है। एमसीएक्स पर शुरू हुए विकल्प कारोबार में सोने का एक अनुबंध है और एनसीडीईएक्स पर ग्वार के तीन अनुबंध पर विकल्प सौदे शुरू किए जाएंगे। कृषि जिंसों में ग्वार पहला जिंस होगा जिसमें विकल्प कारोबार शुरू होगा।  
 
वायदा के मुकाबले ऑप्शंस ट्रेडिंग करना आसान होगा। इससे किसानों को नुकसान कम और मुनाफा अधिक होने की संभावनाएं पैदा होगी। किसान इसका फायदा उठा सके इसीलिए एक्सचेंज ने जागरूकता अभियान लंबे समय से शुरू किया था। कमोडिटी ऑप्शंस में सिर्फ खरीदार होते हैं, चढ़ते हुए बाजार में कॉल और गिरते हुए में पुट खरीदा जाता है। कॉल ऑप्शंस वायदा के तहत बढ़ते दाम से सुरक्षा के लिए हेजिंग की जा सकती है जिसमें असीमित मुनाफे का मौका होता है, वहीं पुट ऑप्शन के तहत सीमित मुनाफे की संभावना के साथ गिरती कीमतों से सुरक्षा मिलती है। ऑप्शंस कॉन्ट्रैक्ट खत्म होने की स्थिति में बचे सौदे वायदा में बदल जाएंगे, इसके बाद उनके ऊपर वायदा के नियम लागू होंगे।  
कीवर्ड NCDEX, NERL, jins,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक