होम » Commodities
«वापस

कपास व्यापारियों ने रद्द किए निर्यात सौदे

रॉयटर्स | मुंबई Jan 14, 2018 09:58 PM IST

भारतीय कपास व्यापारियों ने करीब 4,00,000 गांठों के निर्यात सौदों का अनुबंध रद्द कर दिया है। घरेलू दामों में सुधार और रुपये की मजबूती से विदेशी बिक्री आकर्षित न रहने के बाद ऐसा हुआ है। भारतीय कपास संघ के अध्यक्ष ने रॉयटर्स को यह बताया। एसोसिएशन प्रमुख अतुल गणत्र ने कहा कि इस परिवर्तन की वजह से बांग्लादेश, वियतनाम और चीन जैसे प्रमुख बाजारों में कपास खरीदार छूट गए हैं और अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया तथा ब्राजील के आपूर्तिकर्ताओं से यह कमी पूरी की जाने की संभावना है।
 
उन्होंने कहा कि ये अनुबंध रद्द होने तथा स्थानीय दामों के उच्च स्तर के कारण 1 अक्टूबर से शुरू होने वाले 2017-18 के विपणन वर्ष के दौरान भारत का निर्यात पांच लाख गांठ (एक गांठ का वजन 170 किलोग्राम) कम रह सकता है, जो शुरुआती अनुमान में एक तिमाही का निम्र स्तर है। विश्व के सबसे बड़े फाइबर उत्पादक देश की आपूर्ति में कीट संक्रमण से कमी आने के बाद पिछले छह हफ्तों में दाम 15 प्रतिशत से अधिक हो गए हैं। गणत्र ने कहा कि स्थानीय दामों में अचानक बढ़ोतरी की वजह से बांग्लादेश, वियतनाम और चीन के लिए कुछ निर्यात अनुबंध पूरे नहीं हो सके हैं। उन्होंने निर्यात अनुबंध करने वाले व्यापारियों का खुलासा नहीं किया। हालांकि रॉयटर्स द्वारा संपर्क किए जाने पर छह व्यापारियों ने इस कदम की इसकी पुष्टिï की। पिछले साल के आखिर में तूफान की वजह से शीर्ष निर्यातक अमेरिका की आपूर्ति में संदेह होने के बाद, भारतीय व्यापारियों ने काफी अनुबंधों पर हस्ताक्षर किए थे।
 
कीवर्ड cotton, कपास बुआई,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक