होम » Commodities
«वापस

'ई-नाम' से जुड़ रहे अधिक किसान, मिल रहा लाभ

भाषा | नई दिल्ली Jan 28, 2018 08:20 PM IST

कृषि उपज के बेहतर दाम दिलाने  के लिए शुरू किए गए ऑनलाइन मंच ई-नाम से अब और अधिक  किसान जुड़ रहे हैं ताकि वे इससे जुड़े समय पर भुगतान और अच्छी कीमत का लाभ उठा सकें। मंडी अधिकारियों के अनुसार अधिकतर किसान अब ऑनलाइन बोलियां लगा रहे हैं जो आमतौर पर आढ़तियों का काम होता था। आढ़तिये नियमित थोक मंडियों में काम करते हैं लेकिन वे किसान की उपज की बोली निचले स्तर से करते हैं। अधिकारियों ने बताया कि जैसे-जैसे किसानों में जागरूकता बढ़ रही है, वह स्वयं ऑनलाइन नीलामी को अपना रहे हैं और इस काम में उनका आत्मविश्वास भी बढ़ रहा है। किसानों को जागरूक बनाने के लिए कई पहल भी सरकार ने शुरू की हैं। मौजूदा समय में 14 राज्यों की 470 मंडियों में ऑनलाइन नीलामी की सुविधा उपलब्ध है। ये सभी एक इलेक्ट्रॉनिक मंच राष्ट्रीय कृषि बाजार (ई-नाम) से जुड़ी हैंं। इसे सरकार ने अप्रैल 2016 में शुरू किया था। चालू वित्त वर्ष के अंत तक सरकार इससे कुल 585 नियमित मंडियों को जोडऩे के लक्ष्य पर काम कर रही है।
 
सूर्यपेट थोक मंडी के सचिव इलैय्या ने कहा कि यहां तेलंगाना की सूर्यपेट मंडी को हम पूरी तरह ऑनलाइन नीलामी मंच में बदल चुके हैं। अब और ज्यादा किसान इससे जुड़ रहे हैं क्योंकि उन्हें उपज का बेहतर दाम मिल रहा है और भुगतान भी तत्काल प्राप्त हो जा रहा है।
कीवर्ड agri, आधुनिक मशीन, किसान, कृषि उपकरण,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक