होम » Commodities
«वापस

वाणिज्य मंत्रालय कर रहा आयात शुल्क वृद्धि के फैसले की समीक्षा

भाषा | नई दिल्ली Mar 11, 2018 10:54 PM IST

वाणिज्य मंत्रालय अमेरिका द्वारा कुछ इस्पात और एल्युमीनियम उत्पादों पर आयात शुल्क बढ़ाने के फैसले की समीक्षा कर रहा है। भारत का अमेरिका को इन उत्पादों का सालाना निर्यात करीब दो अरब डॉलर का है।

अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने इस्पात के आयात पर 25 प्रतिशत तथा एल्युमीनियम पर 10 प्रतिशत आयात शुल्क लगा दिया है। ट्रंप ने इस बारे में कानून पर हस्ताक्षर कर दिए हैं। कनाडा और मैक्सिको को छोड़कर अन्य सभी देशों पर यह शुल्क लगाया गया है। एक अधिकारी ने कहा, भारत की घटनाक्रम पर नजदीकी नजर है। हम शुल्क बढ़ोतरी की वजह से भारत के अमेरिका को होने वाले निर्यात पर प्रभाव की समीक्षा कर रहे हैं। अमेरिका द्वारा शुल्क बढ़ाए जाने से वहां के बाजारों को भारत से इन उत्पादों का निर्यात महंगा हो जाएगा। इससे घरेलू उत्पादों की प्रतिस्पर्धी क्षमता प्रभावित हो सकती है।


एक अनुमान के अनुसार भारत हर साल अमेरिको को दो अरब डॉलर का इस्पात एवं एल्युमीनियम निर्यात करता है। अधिकारी ने कहा कि यदि इस मामले में कोई देश अमेरिका को विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) की विवाद निपटान समिति में घसीटता है, तो भारत मामले में पर्यवेक्षक या तीसरे पक्ष के रूप में इसमें शामिल हो सकता है।

डब्ल्यूटीओ नियमों के अनुसार यदि किसी व्यापारिक देश द्वारा अंतरराष्ट्रीय व्यापार नियमों का अनुपालन नहीं किया जाता है, तो सदस्य देश उसके खिलाफ अपील कर सकते हैं। भारत सहित 17 देश इससे पहले डब्ल्यूटीओ की जिनेवा में हुई महापरिषद की बैठक में अमेरिका की आयात शुल्क बढ़ाने की योजना पर चिंता व्यक्त कर चुके हैं।
कीवर्ड वाणिज्य मंत्रालय, अमेरिका, इस्पात, एल्युमीनियम,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक