होम » Commodities
«वापस

दुधारू गाय-भैंसों के लिए जारी होगी 12 अंकों की विशिष्ट पहचान संख्या

भाषा | नई दिल्ली Mar 13, 2018 03:20 PM IST

भारत सरकार 12 अंकों की विशिष्ट पहचान संख्या का इस्तेमाल करके दुधारू गायों और भैंसों की पहचान कर रही है। इस संबंध में नौ करोड़ दुधारू मवेशियों की पहचान करने के लिए 148 करोड़ रुपये का आवंटन किया गया है। कृषि मंत्री राधा सिंह ने आज लोकसभा में यह जानकारी दी। सिंह ने हिना गावित और पीआर सुंदरम के प्रश्न के लिखित उत्तर में कहा कि इससे पशुओं के वैज्ञानिक प्रजनन, रोगों के फैलने पर नियंत्रण और दूध तथा दुग्ध उत्पादों के व्यापार में वृद्धि करने के उद्देश्य की प्राप्ति होगी।

राष्ट्रीय पशु उत्पादकता मिशन के पशु संजीवनी घटक के तहत इसे लागू किया जा रहा है। सिंह ने कहा कि तकनीक के लिहाज से राष्ट्रीय डेयरी विकास बोर्ड पहले ही पशु स्वास्थ्य और उत्पादन संबंधी सूचना नेटवर्क (आईएनएपीएच) विकसित कर चुका है, जिसे 12 अंकीय विशिष्ट पहचान संख्या वाले पोलीयूरिथिन टैग का प्रयोग करके पशु पहचान संबंधी डाटा अपलोड करने के लिए राष्ट्रीय डाटाबेस के रूप में प्रयोग किया जा रहा है। कृषि मंत्री ने बताया कि निविदा के आधार पर इस पोलीयूरिथिन टैग की कीमत आठ से 12 रुपये प्रति टैग है। नौ करोड़ दुधारू पशुओं की पहचान करने तथा उन्हें नकुल स्वास्थ्य पत्र (स्वास्थ्य कार्ड) जारी करने के लिए पशु संजीवनी घटक के तहत 148 करोड़ रुपये का आवंटन किया गया है। इस घटक के कार्यान्वयन के लिए राज्यों को केंद्रीय हिस्से के रूप में 75 करोड़ रुपये की राशि पहले ही जारी की जा चुकी है।

कीवर्ड गाय, भैंस, विशिष्ट पहचान संख्या, लोकसभा, प्रजनन, दुग्ध उत्पाद, आईएनएपीएच, पोलीयूरिथिन टैग,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक