होम » Commodities
«वापस

यूरिया सब्सिडी 2020 तक बढ़ाए जाने से उर्वरक शेयर में उछाल

दिलीप कुमार झा | मुंबई Mar 15, 2018 10:24 PM IST

उवर्रक की कीमतों में किसी तरह की बढ़ोतरी के बिना यूरिया की मौजूदा नीति को तीन साल का विस्तार मिलने से गुरुवार को उर्वरक कंपनियों के शेयर 10 फीसदी तक चढ़ गए। नागार्जुन फर्टिलाइजर्स के शेयर कीमत में सबसे ज्यादा 10 फीसदी की बढ़ोतरी हुई और यह 18.45 रुपये पर पहुंच गया जबकि नैशनल फटिलाइजर्स, राष्ट्रीय केमिकल ऐंड फर्टिलाइजर्स के शेयर क्रमश: 5 व 4.11 फीसदी की बढ़ोतरी के साथ 59.25 रुपये व 79.80 रुपये पर बंद हुए। चंबल फर्टिलाइजर्स और दीपक फर्टिलाइजर्स के शेयरों में क्रमश: 2 फीसदी व 1.7 फीसदी की मामूली बढ़ोतरी दर्ज हुई। 

एमके ग्लोबल के विश्लेषक हिमांशु बिनानी ने कहा, उर्वरक कंपनियों के शेयर कीमतों में बढ़ोतरी के लिए कीमत में बढ़ोतरी के बिना यूरिया नीति को तीन साल का विस्तार दिए जाने के कैबिनेट के फैसले को जिम्मेदार ठहराया जा सकता है।


प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में आर्थिक मामलों की कैबिनेट कमेटी ने बुधवार को उर्वरक विभाग के उस प्रस्ताव को मंजूर कर लिया, जिसमें यूरिया सब्सिडी योजना को 2019-20 तक बढ़ाने की बात कही गई थी और इस पर अनुमानित लागत 1649.35 अरब रुपये होगी। इस फैसले से साल 2020 तक यूरिया की कीमत नहीं बढ़ेगी।

यूरिया सब्सिडी योजना के जारी रहने से यूरिया विनिर्माताओं को समय पर सब्सिडी का भुगतान सुनिश्चित होगा, जिससे किसानों को समय पर यूरिया भी मिल पाएगा। यूरिया सब्सिडी में आयातित यूरिया सब्सिडी शामिल है।

आर्थिक मामलों की कैबिनेट कमेटी ने एक बयान में कहा, इन कदमों ने उचित कीमत पर किसानों को यूरिया की आसान उपलब्धता बनाए रखी है। आज का फैसला किसानों के कल्याण के प्रति मौजूदा सरकार की प्रतिबद्धता को दोहराता है।

यूरिया नीति का विस्तार केंद्र सरकार की किसानों के अनुकूल नीतियों का विस्तार है। पहले 100 फीसदी नीम कोटेड यूरिया साल 2015 में अनिवार्य था, जिसके बारे में कृषि विभाग का कहना है कि इससे किसानों को काफी फायदा मिला है।
कीवर्ड उवर्रक, यूरिया, नागार्जुन फर्टिलाइजर्स, नैशनल फटिलाइजर्स, हिमांशु बिनानी,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक