होम » Commodities
«वापस

एल्युमीनियम कंपनियों की ट्रंप से शुल्क में छूट की मांग

जयजित दास | भुवनेश्वर Mar 16, 2018 11:21 PM IST

भारतीय एल्युमीनियम कंपनियों ने अमेरिका में ट्रंप प्रशासन द्वारा एल्युमीनियम के आयात पर घोषित 10 फीसदी शुल्क में छूट की मांग की है। अमेरिकी सरकार ने कनाडा, मैक्सिको और ऑस्ट्रेलिया को इस तरह की छूट दे रखी है। ट्रंप प्रशासन ने उत्तर अमेरिका मुक्त व्यापार समझौते (नाफ्टा) में चल रही बातचीत को देखते हुए कनाडा और मैक्सिको को इस शुल्क से छूट दी है। ऑस्ट्रेलिया को इसलिए छूट दी गई है क्योंकि दोनों देशों के बीच कई द्विपक्षीय रणनीतिक करार हैं। अलबत्ता अमेरिकी सरकार ने घोषणा की है कि वह हर देश के लिए व्यक्तिगत छूट का अलग से आकलन करेगी। राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने कहा कि शुल्क के मामले में विकल्प खुले रखे जाएंगे। अगर अमेरिका को यकीन होगा कि किसी देश के उत्पादों से उसकी सुरक्षा को कोई खतरा नहीं है तो उन देशों के लिए शुल्क हटाने या संशोधित करने पर विचार किया जाएगा। 

भारतीय एल्युमीनियम कंपनियों का मानना है कि भारत और अमेरिका के बीच रणनीतिक संबंधों को देखते हुए भारत सरकार को इस मुद्दे को अमेरिकी सरकार के समक्ष उठाना चाहिए और भारत के लिए व्यक्तिगत छूट की मांग करनी चाहिए। एल्युमीनियम एसोसिएशन ऑफ इंडिया (एएआई) ने इस बारे में केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय को पत्र लिखा है।

 
एएआई का कहना है कि यूरोपीय देशों के नेता और अमेरिका के सहयोगी देशों जैसे ब्रिटेन, जापान और कोरिया इस मुद्दे को अमेरिकी सरकार के समक्ष उठा रहे हैं और व्यक्तिगत छूट की मांग कर रहे हैं। दूसरे देशों की तरह भारत को भी अपने एल्युमीनियम उद्योग को मदद करने के लिए अमेरिकी शुल्क से छूट की मांग करनी चाहिए क्योंकि इस शुल्क से भारत से अमेरिका को होने वाला निर्यात दूसरे देशों की तुलना में प्रतिस्पद्र्घी नहीं रह जाएगा।

उसका तर्क है कि भारत से अमेरिका को होने वाले एल्युमीनियम निर्यात से वहां की राष्ट्रीय सुरक्षा, घरेलू उद्योग और नौकरियों को कोई खतरा नहीं है। इसके बजाय भारत से अमेरिका को उच्च गुणवत्ता का एल्युमीनियम निर्यात किया जाता है जिससे वहां बुनियादी ढांचा, रक्षा, वाहन और उड्डïयन क्षेत्रों में बढ़ रही मांग को पूरा किया जा रहा है। 

एएआई के अध्यक्ष और नैशनल एल्युमीनियम कंपनी (नालको) के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक टी के चांद ने कहा कि अमेरिका को हमारा निर्यात बहुत कम है। यह सालाना 125,000 टन है और इसमें 60 फीसदी एल्युमीनियम छड़ें होती हैं। चीन और पश्चिम एशिया के देशों से अमेरिका को भारी निर्यात होता है। अमेरिका द्वारा आयात शुल्क लगाने से भारतीय जिंस बाजारों पर गंभीर प्रभाव होगा। 

वर्ष 2017 में अमेरिका की एल्युमीनियम उत्पादन क्षमता 18 लाख टन थी जबकि केवल 7.8 लाख टन एल्युमीनियम का उत्पादन किया गया। लेकिन देश में एल्युमीनियम की कुल खपत 55.1 लाख टन थी जिसमें से 50.4 लाख टन आयात किया गया। अमेरिका में होने वाले एल्युमीनियम के कुल आयात में कनाडा, रूस, संयुक्त अरब अमीरात और चीन की हिस्सेदारी 73 फीसदी है।
कीवर्ड भारतीय, एल्युमीनियम, अमेरिका, ट्रंप प्रशासन,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक