होम » Commodities
«वापस

वियतनाम के झींगे पर शुल्क से भारतीय निर्यात पर आया दबाव

निर्माल्य बेहड़ा | भुवनेश्वर Mar 21, 2018 09:00 PM IST

अमेरिका बढ़ा सकता है वियतनाम के झींगे पर शुल्क

मूल्य वृद्धि और अमेरिका के लिए पुन: निर्यात के मकसद से भारत से वियतनाम को झींगे का निर्यात प्रभावित हो सकता है। इसकी वजह यह है कि अमेरिका द्वारा वियतनाम से आने वाले झींगे पर ऐंटी डंपिंग शुल्क (एडीडी) बढ़ाए जाने की आशंका है। खबरों के अनुसार अमेरिका ने पिछले साल यह शुल्क 4.8 फीसदी से बढ़ाकर 25.39 फीसदी कर दिया। भारत मुख्य रूप से पुन: प्रसंस्करण और चीन, यूरोपीय संघ, जापान और अमेरिका जैसे अपने उपभोक्ता देशों के लिए ब्लॉक फ्रोजन झींगे का निर्यात करता है।

वर्ष 2017 में भारत ने वियतनाम को लगभग 1,57,440 टन (75.41 अरब रुपये मूल्य) झींगे का निर्यात किया और बिक्री के संदर्भ में भारत के कुल झींगा निर्यात में इसका 17 फीसदी का योगदान है।  एक निर्यातक ने कहा, 'निर्यातकों द्वारा मूल्य वृद्घि और पुन: निर्यात के लिए वियतनाम को खेपें भेजने से खासकर पश्चिम बंगाल और ओडिशा से झींगे का निर्यात बुरी तरह प्रभावित होगा।'

वियतनाम एसोसिएशन ऑफ सीफूड एक्सपोर्टर्स ऐंड प्रोड्यूसर्स (वीएएसईपी) का मानना है कि अमेरिकी वाणिज्य विभाग द्वारा एंटी-डम्पिंग शुल्क काफी बढ़ाया जा सकता है। विश्लेषकों का कहना है कि इस शुल्क से वियतनाम से अमेरिका के लिए झींगा निर्यात में भारी कमी आएगी और इसका प्रभाव वियतनाम को झींगा निर्यात करने वाले भारतीय निर्यातकों पर भी पड़ेगा।

रेटिंग एजेंसी इक्रा में कॉरपोरेट रेटिंग्स की उपाध्यक्ष एवं क्षेत्र प्रमुख पवित्र पूनिया ने कहा, 'जहां वियतनाम पर एडीडी  बढ़ने से वियतनाम के लिए भारतीय निर्यात प्रभावित हो सकता है, वहीं यदि यह ऊंची एडीडी दर बरकरार रहती है तो मध्यावधि में भारत मूल्यवर्धित प्रसंस्करण क्षमता पर निवेश कर सकता है।'

वियतनाम के लिए यूरोपीय संघ झींगे का सबसे बड़ा ग्राहक है। वियतनाम के लिए निर्यात में यूरोपीय संघ का योगदान 22.4 प्रतिशत है। यूरोपीय संघ के बाद जापान (18.3 प्रतिशत) और चीन/हॉन्गकॉन्ग (17.7 प्रतिशत) का स्थान है। वहीं अमेरिका 17.1 फीसदी के साथ चौथा सबसे बड़ा ग्राहक है। पोन्निया ने कहा कि यूरोपीय संघ और वियतनाम के बीच मुक्त व्यापार समझौते पर पुन: बातचीत की जा रही है और यदि 2018 में यह लागू हुआ तो यूरोपीय संघ के लिए वियतनाम से झींगा निर्यात पर शून्य शुल्क को बढ़ावा मिलेगा। चूंकि यूरोपीय संघ पहले से ही वियतनाम से झींगे का सबसे बड़ा ग्राहक है, जिसे देखते हुए वियतनाम अमेरिका से अपने निर्यात को चीन जैसे अच्छी मांग वाले अन्य देशों के लिए मोड़ सकता है। 
कीवर्ड sea food, fish,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक