होम » Commodities
«वापस

एनएमसीई-आईसीईएक्स विलय पर बैठक

दिलीप कुमार झा | मुंबई Mar 27, 2018 09:50 PM IST

राष्ट्रीय कंपनी कानून न्यायाधिकरण (एनसीएलटी) ने अहमदाबाद स्थित नैशनल मल्टी कमोडिटी एक्सचेेंज (एनएमसीई) और इंडियन कमोडिटी एक्सचेंज (आईसीईएक्स) के शेयरधारकों और ऋणदाताओं की बैठक बुलाई है ताकि दोनों एक्सचेंजों के विलय के प्रस्तावित शेयर अदला-बदली अनुपात को लेकर सहमति बनाई जा सके।  यह बैठक 5 अप्रैल को एनएमसीई के कार्यालय में होगी। बैठक की अध्यक्षता गुजरात उच्च न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश कमल मेहता करेंगे। एनएमसीई के प्रबंध निदेशक अनिल मिश्रा ने कहा, 'हम उस चरण में पहुंच गए हैं, जिसमें एनसीएलटी ने न्यायमूर्ति मेहता की निगरानी में एनएमसीई और आईसीईएक्स के विलय की प्रस्तावित योजना को मंजूरी देने के लिए शेयरधारकों और ऋणदाताओं की बैठक बुलाई है। बैठक के नतीजों के बारे में एनसीएलटी को सीधे सूचित किया जाएगा, जो फिर विलय की प्रक्रिया को आगे बढ़ाएगा।' 
 
पिछले साल 3 जुलाई को एनएमसीई ने खुद के आईसीईएक्स में विलय की घोषणा की थी ताकि भारत का तीसरा सबसे बड़ा जिंस एक्सचेंज बन सके। देश को दो सबसे बड़े जिंस एक्सचेंज मल्टी कमोडिटी एक्सचेंज (एमसीएक्स) और नैशनल कमोडिटी ऐंड डेरिवेटिव्ज एक्सचेंज (एनसीडीईएक्स) हैं। हालांकि विलय के बाद बनने वाले एक्सचेंज ने सराफा, तेल, रबर और एनएमसीई पर पहले से सूचीबद्ध जिंसों से इतर कृषि जिंसों में वायदा कारोबार की सुविधा मुहैया कराने की योजना बनाई है। इस समय आईसीईएक्स केवल 1 कैरट और 0.5 कैरट के तराशे हीरों में वायदा कारोबार की सुविधा मुहैया कराता है। 
 
दोनों एक्सचेंजों के बोर्डों ने विलय को मंजूरी दे दी है, जिसमें विलय के बाद बनने वाली कंपनी में आईसीईएक्स के शेयरधारकों की हिस्सेदारी 62.8 फीसदी और एनएमसीई के शेयरधारकों की हिस्सेदारी 37.2 फीसदी होगी।  विलय के बाद बनने वाली नई कंपनी में एमएमटीसी, इंडियन पोटाश, कृभको, आईडीएफसी बैंक, रिलायंस कैपिटल, इंडियाबुल्स हाउसिंग फाइनैंस, पंजाब नैशनल बैंक, बजाज होल्डिंग्स और सेंट्रल वेयरहाउसिंग कॉरपोरेशन आदि हिस्सेदार होंगी।  इस बीएच एनएमसीई ने अपने प्लेटफॉर्म पर डे टे्रेडिंग में बढ़ोतरी दर्ज की है। मिश्रा ने कहा, 'कारोबारियों के अपनी पोजिशन बराबर करने (स्कवायर ऑफ) पर उन्हें संबंधित जिंस का स्टॉक गोदामों में रखने की जरूरत नहीं होगी। अगर कारोबार को आगे बरकरार रखा जाता है तो उन्हें एक्सचेंज से मान्यता प्राप्त गोदामों में जिंसों का स्टॉक रखना होगा।'
 
केवल मार्च, 2018 में ही एनएमसीई पर जिंसों का कारोबार 21 मार्च को बढ़कर 21,174 लॉट पर पहुंच गया है, जो 1 मार्च को 19,480 लॉट था। इसके विपरीत एक्सचेंज पर ओपन इंटरेस्ट 21 मार्च को घटकर 4,688 लॉट पर आ गया, जो 1 मार्च को 5,696 लॉट था। एक्सचेंज के पास 21 मार्च को केवल दक्षिणी राज्यों के गोदामों में कुल 2,862 टन रबर था, जबकि यह कॉफी और ईसबगोल जैसे कई जिंसों ममें वायदा कारोबार की सुविधा मुहैया कराता है।  अमूमन बहुत से अनुबंधों में सालभर कोई कारोबार नहीं होता है, लेकिन इसमें मार्च में अचानक लेनदेन बढ़ गया है। इसकी वजह यह है कि कारोबारी डेरिवेटिव लेनदेन से होने वाले लाभ-हानि को आयकर अधिनियम के हिसाब से समायोजित करना चाहते हैं।  हालांकि मिश्रा ने कारोबारी मात्रा में अचानक बढ़ोतरी की वजह प्रस्तावित विलय से पहले नए सदस्यों की भागीदारी को बताया। एक्सचेंज ने पिछले एक साल में 10 नए सदस्य जोड़े हैं, जिससे उसकी कुल पंजीकृत सदस्य संख्या बढ़कर 44 हो गई है। सूत्रों ने कहा कि आईसीईएक्स खुद में एनएमसीई के विलय से पहले उचित मंजूरी लेना चाहता है। 
कीवर्ड ncedx, NCLT, NMCE,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक