होम » Commodities
«वापस

स्वर्ण बिक्री का वैट हटाने पर विचार कर रहा दुबई

दिलीप कुमार झा | मुंबई Apr 01, 2018 08:12 PM IST

भारतीय रत्नाभूषण निर्यातकों के लिए जल्द ही एक बड़ी राहत की बात हो सकती है। दुबई सरकार हाल में लागू किए गए मूल्य वर्धित कर (वैट) से उन्हें छूट देने पर विचार कर रही है। दुबई और संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के विभागों ने 1 जनवरी को सोने और अन्य आभूषणों पर पांच प्रतिशत वैट लगाया था। इससे भारतीय निर्यातक पर असर पड़ा था, क्योंकि वे पिछले साल तक यूएई और दुबई के जरियेयूरोपीय और अफ्रीकी देशों को अपनी खेप भेजा करते थे। इस शुल्क के बाद दुबई में सोने के दाम भारत के दामों के करीब आ गए थे। इसलिए अनिवासी भारतीयों समेत विदेश के बाजारों को लक्ष्य बनाने वाले निर्यातकों को दुबई के जरिये वहां पहुंचना महंगा पड़ रहा था। हालांकि, अब दुबई बिजनेस-टु-बिजनेस (बीटूबी) और बिजनेस-टु-कंज्यूमर (बीटूसी) की बिक्री के साथ-साथ सोने से वैट हटाने पर विचार कर रहा है। हालांकि, आभूषण-निर्माण शुल्क पर यह जारी रहेगा।
 
शहर में जौहरियों के सबसे बड़े समूह - दुबई गोल्ड ऐंड आभूषण गु्रप (डीजीजेजी) ने अपने सदस्यों को लिखे एक पत्र में कहा है कि हमें दुबई मल्टी कमोडिटी सेंटर के कार्यकारी अध्यक्ष अहमद बिन सुलायेम ने बताया है कि कुछ महीनों में हमारे क्षेत्र पर वैट के मद्देनजर खास ध्यान दिया जा सकता है। पत्र में आगे कहा गया है कि परिवर्तित शुल्क प्रक्रिया के जरिये बीटुबी ग्राहकों से पूरे मूल्य पर पांच प्रतिशत का शुल्क लिया जाएगा। इसका मतलब यह है कि वास्तविक भुगतान की कोई जरूरत नहीं है। वैट केवल कागजों पर लागू होगा। हालांकि, बीटूसी या खुदरा उपभोक्ताओं के लिए सोने के मूल्य पर नहीं, बल्कि निर्माण शुल्क/मूल्य वर्धन पर पांच प्रतिशत वैट होगा।
 
भारत की रत्न और आभूषण निर्यात संवर्धन परिषद (जीजेईपीसी) द्वारा एकत्रित किए गए आंकड़ों से पता चलता है पिछले साल अप्रैल से इस साल फरवरी के बीच देश केसकल रत्नाभूषण निर्यात में रुपये के रूप में 7.53 प्रतिशत और डॉलर के रूप में 3.63 प्रतिशत की गिरावट आई है। पश्चिम एशिया रत्नाभूषण का एक प्रमुख निर्यात बाजार होने की वजह से ज्यादातर गिरावट वैट की शुरुआत के बाद आई है। मुंबई स्थित आभूषण निर्यातक पोपली ऐंड संस की दुबई में व्यापक खुदरा उपस्थिति है। इसके निदेशक राजीव पोपली कहते हैं कि अगर वैट हटा दिया जाता है, तो यह एक बड़ी राहत होगी। यह शुल्क लगाए जाने के बाद से दुबई में भारत का आभूषण निर्यात 50 प्रतिशत तक गिर चुका है। उन्होंने कहा कि वैट ने दुबई के कर मुक्त देश होने का प्रयोजन कम कर दिया है।
कीवर्ड gold,सराफा बाजार, आभूषण,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक