होम » Commodities
«वापस

सुस्त रही गेहूं खरीद की रफ्तार आगे बन रहे तेजी के आसार

संजीव मुखर्जी | नई दिल्ली Apr 08, 2018 09:32 PM IST

सुस्त रफ्तार के साथ शुरू हुई गेहूं खरीद में पंजाब, हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में आवक सुधारने से तेजी आ सकती है। खाद्य मंत्रालय के आंकड़े में कहा गया है कि बुधवार तक लगभग 10.4 लाख टन गेहूं केंद्रीय पूल के लिए खरीदा गया जो पिछले साल की समान अवधि की तुलना में लगभग 15 प्रतिशत कम है।  बड़ी गिरावट मध्य प्रदेश में दर्ज की गई है जहां बुधवार तक लगभग 860,000 टन गेहूं खरीदा गया, जबकि पिछले साल की समान अवधि में यह आंकड़ा 11.5 लाख टन था। राज्य ने 2018-19 में लगभग 67 लाख टन गेहूं खरीद का लक्ष्य रखा है।
 
अधिकारियों ने कहा कि यदि यही रुझान बना रहा तो इसका मतलब होगा कि राज्य में गेहूं उत्पादन घट जाएगा और किसान इस रबी सत्र में चने की खेती पर जोर देंगे। सरकार ने इस साल केंद्रीय पूल के लिए लगभग 3.2 करोड़ टन खरीद का लक्ष्य रखा। यह 2017-18 की तुलना में लगभग 20 लाख टन अधिक है।  2018-19 में गेहूं उत्पादन लगभग 9.711 करोड़ टन रहने का अनुमान है, जो 2017-18 के 9.851 करोड़ टन की तुलना में कुछ कम है। इस बीच, खुले बाजार में गेहूं की कीमतें 1,735 रुपये प्रति क्विंटल के न्यूनतम समर्थन मूल्य से भी नीचे आ गई हैं। कीमतों में गिरावट मार्च के दूसरे पखवाड़े से शुरू हो गई, क्योंकि मध्य प्रदेश, राजस्थान और गुजरात के साथ अन्य राज्यों से नया गेहूं पहुंचना शुरू हो गया है।
कीवर्ड agri, farmer, wheat,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक