होम » Commodities
«वापस

अक्षय तृतीया पर बढ़ी सोने की चमक

सुशील मिश्र | मुंबई Apr 18, 2018 09:37 PM IST

पिछले कई महीनों से ग्राहकों की कमी का रोना रो रहे जौहरियों की सारी मुरादें आज अक्षय तृतीया के दिन पूरी हो गई। इस मौके पर उनके यहां जमकर धनवर्षा हुई। सोने पर चढ़ा महंगाई का प्रकोप भी खरीदारों के जोश को कम नहीं कर पाया। पिछले साल की अपेक्षा सोना करीब 12 फीसदी महंगा होने के बावजूद जौहरी बिक्री में 20 फीसदी तक इजाफा होने का दावा कर रहे हैं।

अक्षय तृतीया पर पहली बार सोने का भाव प्रति 10 ग्राम 32 हजार रुपये के पार चला गया। भारी मांग के चलते मुंबई में सोने की कीमत 32,150 रुपये पहुंच गई जबकि पिछले साल अक्षय तृतीया के दिन यह 28,661 रुपये थी। कीमतें बढऩे के बावजूद जौहरियों के यहां ग्राहकों की संख्या में कोई कमी नहीं थी। मुंबई ज्वैलर्स एसोसिएशन के कुमार जैन कहते हैं कि पिछले साल की अपेक्षा इस बार मुंबई में सोने की मांग 20 फीसदी अधिक है।

महाराष्ट्र के ग्रामीण इलाकों से भी अच्छी खबर मिल रही है। आभूषण कारोबारियों का कहना है कि अक्षय तृतीया ने नीरव मोदी कांड से पैदा हुई निराशा को दूर कर दिया है। यह पूरा कारोबार भरोसे पर चलता है। लोगों का भरोसा वापस कायम हो गया और कारोबार दोबारा अपनी लय में आ गया। आगे इसमें और तेजी आने की उम्मीद है।

शादी-विवाह का मौसम शुरू हो चुका है। मॉनसून बेहतर रहने की भविष्यवाणी हो चुकी है। वैश्विक स्तर पर जारी उथल-पुथल भी निवेशकों को सोने की तरफ  आकर्षित कर रही है। साथ ही सरकार भी सकारात्मक माहौल बनाने के लिए प्रयासरत है। इस वजह से पिछले कुछ दिनों से बुकिंग बढ़ी है। इसे देखते हुए अनुमान लगाया जा रहा है कि इस साल भी बिक्री बढ़ेगी। सराफा बाजार के जानकार हार्दिक हुंडिया कहते हैं कि यह प्रचार का दौर है।

जौहरियों के सामने सबसे बड़ी चुनौती नीरव मोदी कांड को पीछे छोडऩे की थी क्योंकि रत्न और आभूषण कारोबार पूरी तरह भरोसे पर टिका है। इस भरोसे को वापस लाने के लिए अक्षय तृतीया बेहतरीन मौका था जिसको इंडस्ट्री ने भुनाया।

जौहरियों की तरफ  से अक्षय तृतीया की जमकर मार्केटिंग की गई थी। प्रचार में जहां धर्म, परांपराओं, मान्यताओं और वैश्विक परिवेश का सहारा लिया गया वहीं छूट और ऑफरों की झड़ी लगाकर ग्राहकों को खरीदारी के लिए लुभाया।

यही वजह है कि महंगाई के बावजूद बिक्री बढ़ रही है। जौहरियों के साथ जिंस बाजार के जानकारों का भी कहना था कि महंगाई के बावजूद सोना खरीदने का यह सही समय है क्योंकि आगे कीमतें और बढऩे वाली हैं। कमोडिटीज ऐंड करेंसी रिसर्च फर्म निर्मल बंग के प्रमुख कुणाल शाह के मुताबिक मौद्रिक नीति को लेकर अनिश्चितताएं भूराजनीतिक संकट से जुड़ी अनिश्चितताओं से सोना महंगा हो सकता है।

कीवर्ड akshay tritaya, gold, mumbai,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक