होम » Commodities
«वापस

'विश्व की सभी खदानें आ सकती हैं एक ब्लॉकचेन पर'

राजेश भयानी |  Apr 22, 2018 09:41 PM IST

डी बीयर्स समूह के मुख्य कार्याधिकारी ब्रूस क्लीवर का कहना है कि विभिन्न चुनौतियों  के बावजूद पिछला साल अच्छा रहा। यह समूह पिछले 100 वर्षों से हीरा कारोबार के हर क्षेत्र में अग्रणी रहा है। क्लीवर की राजेश भयानी के साथ बातचीत के अंश : 

 
भारत के रत्न एवं आभूषण क्षेत्र में हाल में घोटाले और उसके बाद इस क्षेत्र को बैंक ऋण मिलने में कमी आने का हीरों की मांग पर क्या असर पड़ा है? 
 
इसका रुझान पर कुछ तात्कालिक असर पड़ा। लेकिन बैंकों के साथ हमारी बातचीत में यह बात सामने आई है कि अच्छे उद्यमों को आसानी से ऋण मिल रहा है। हमारे अच्छे ग्राहक को आगे बेहतरी की उम्मीद है। रोचक बात यह है कि वे हमसे कह रहे हैं कि यह अच्छा साल रहेगा और इस समय उपभोक्ता रुझान अच्छा बना हुआ है। नोटबंदी और जीएसटी लागू होने के बाद पूरे बाजार में सुधार आया है। हाल के घोटाले के बावजूद अच्छे ग्राहकों को बेहतर कारोबार की आशा है। 
 
पिछले एक साल में डी बीयर्स ने भारत में कुछ साइटहोल्डर (कच्चे हीरों  के अधिकृत बड़े खरीदार) गंवाए हैं। हाल में घोटाले के बाद गीतांजलि जेम्स भी साइटहोल्डर नहीं रही है। क्या आप अन्य भारतीय उद्यमियों को साइटों (अनुबंधों) का फिर से आवंटन कर रहे हैं? 
 
हम कुछ साइटहोल्डरों के जाने और नए साइटहोल्डर आने को एक स्वस्थ संकेत के रूप में देखते हैं। हाल में दो नए साइटहोल्डर जोड़े गए हैं। पिछले साल भारत में हमारे साइटहोल्डरों की संख्या 30 थी, जो इस साल भी इसी आंकड़े पर रहेगी। यह एक अनवरत प्रक्रिया है। हम नए साइटहोल्डर बनाने को तैयार हैं। 
 
डी बीयर्स ने पिछले कुछ महीनों के दौरान दो बार कीमतें बढ़ाई हैं। इसका आने वाली तिमाहियों में मांग पर क्या असर पड़ेगा, जब भारतीय हीरा कारोबारी मुश्किल दौर से गुजर रहे हैं? 
 
मैं कीमतों के बारे में बात नहीं कर सकता, लेकिन कह सकता हूं कि कीमतें मजबूत हो रही हैं। इसकी वजह यह है कि दुनियाभर में उपभोक्ता मांग बहुत अच्छी है। अमेरिका और चीन में क्रिसमस और चीनी नए वर्ष पर अच्छा मांग आई है। इसी तरह भारत में भी अच्छी मांग है। 2017 हीरों के लिए अच्छा साल रहा। हमें उम्मीद है कि 2018 भी अच्छा साल रहेगा और यह संभïवतया 2017 से बेहतर साबित हो सकता है। 
 
हीरों की खुदरा मांग कैसी रही है? प्राकृतिक हीरों में सिंथेटिक हीरे मिलाए जाने की अफवाह हैं? 
 
हमारे 'फोरेवर' ब्रांड की हीरों की खुदरा बिक्री बहुत अच्छी है। यहां तक कि आज भी अक्षय तृतीया के दिन भी खरीदारी के लिए ग्राहकों ने अग्रिम बुकिंग की हैं। हम अपने स्तर पर हीरों की परख की पूरी कोशिश कर रहे हैं। यहां तक कि खुदरा विक्रेता भी बिक्री के समय परीक्षण के लिए हमारे उपकरणों का इस्तेमाल करते हैं। अब रुझान में यह बदलाव आया है। 
 
डी बीयर्स ब्लॉकचेन लागू कर रही है ताकि प्राकृतिक हीरों में सिंथेटिक हीरों की मिलावट न हो और ये अशांत क्षेत्रों से न आएं। इस दिशा में अभी कितना काम हुआ है और इससे भारतीय ग्राहकों और तराशकारों को कैसे मदद मिलेगी? 
 
हमने एक साल पहले ब्लॉकचेन के लिए पायलट (प्रायोगिक परीक्षण) शुरू किया था। इस बात के लिए एक सार्वजनिक रजिस्टर की जरूरत महसूस की गई कि ये हीरे अशांत क्षेत्रों के न हों और इनमें कोई मिलावट न हो। ब्लॉकचेन एक अच्छा विचार है और हम सभी भागीदारों के साथ मिलकर एसेट-ट्रैकिंग ब्लॉकचेन पर काम कर रहे हैं। इस परियोजना के अच्छे नतीजे आए हैं। 
कीवर्ड diamond, gold, jewellers,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक