होम » Commodities
«वापस

वैकल्पिक साइट को दुरुस्त कर रहे एक्सचेंज

राजेश भयानी | मुंबई Apr 29, 2018 09:56 PM IST

नैशनल कमोडिटी ऐंड डेरिवेटिव्ज एक्सचेंज (एनसीडीईएक्स) के अप्रैल के मध्य में एक डिजास्टर रिकवरी (डीआर) साइट पर अपना कारोबार स्थानांतरित करने से एक्सचेंज की कारोबारी मात्रा में भारी गिरावट आई है।  डीआर साइट एक वैकल्पिक छोटा प्लेटफॉर्म है। इसका एक्सचेंज तब इस्तेमाल करते हैं, जब उनका मुख्य सेट-अप काम करना बंद कर देता है। एनसीडीईएक्स को अपना कारोबार डीआर साइट पर स्थानांतरित करने का फैसला तब लेना पड़ा, जब उसकी मुंबई के कंजुरमार्ग स्थित इमारत में 16 अप्रैल को आग लगने से कुछ केबल क्षतिग्रस्त हो गईं। एक्सचेंज के अपनी साइट को स्थानांतरित करने के एक दिन बाद कारोबारी परिचालन सामान्य हो पाया। 
 
इस घटना के बाद डीआर परिचालन सुर्खियों में आया है क्योंकि शायद ऐसा पहली बार हो रहा है जब किसी एक्सचेंज को करीब दो सप्ताह तक किसी डीआर साइट से परिचालन करना पड़ा हो। एनसीडीईएक्स की डीआर साइट पर कारोबार 16 अप्रैल से हो रहा है, लेकिन छोटे ब्रोकर लीज लाइन ठीक से काम नहीं करने की शिकायतें कर रहे हैं। एक्सचेंज पर दैनिक कारोबारी मात्रा 27 अप्रैल तक घटकर 15.5 अरब रुपये पर आ गई, जो आग लगने से पहले इस महीने के पहले पखवाड़े में 21.87 अरब रुपये थी। 
 
एक ब्रोकर ने नाम न प्रकाशित करने का आग्रह करते हुए बताया कि उनके कारोबार की मात्रा पर असर पड़ा है और वह लीज लाइनों के ठीक से काम नहीं करने के कारण अपने ग्राहकों को सेवा नहीं दे पा रहे हैं। उन्होंने कहा कि उनके एमसीएक्स कारोबार के मुकाबले एनसीडीईएक्स कारोबार 10 फीसदी है, इसलिए डीआर पर कारोबार के लिए इंटरनेट लाइनों पर निवेश करना उनके लिए फायदे का सौदा नहीं है।   एनसीडीईएक्स ने गुरुवार शाम जारी एक परिपत्र में कहा, 'एनसीडीईएक्स मुख्य साइट को बहाल करने पर काम कर रहा है और जल्द ही काम पूरा होने की उम्मीद है। एक्सचेंज अपनी मुख्य साइट की कनेक्टिविटी और इसके पूरी तरह तैयार होने का परीक्षण करने के लिए मॉक ट्रेडिंग सत्र चलाएगा।'
 
किसी डीआर साइट पर दो सप्ताह तक कारोबार भारत में किसी एक्सचेंज के लिए सबसे लंबा वक्त है। वर्ष 2005 में मुंबई में बाढ़ आने के कारण एमसीएक्स ने कुछ दिनों के लिए कारोबार को डीआर साइट पर स्थानांतरित किया था। उद्योग के एक अधिकारी ने कहा, 'हालांकि इस बार सभी एक्सचेंज डीआर साइट की कार्यप्रणाली पर ध्यान दे रहे हैं। वे ऐसी किसी घटना की स्थिति में लंबे समय तक उपयोग के लिए डीआर साइट के परिचालन का फिर से परीक्षण कर रहे हैं।'
 
इस उद्योग से लंबे समय से जुड़े एक व्यक्ति ने कहा, 'एक्सचेंज कई वर्षों से परीक्षण के लिए टेस्टिंग और ट्रेडिंग कर रहे हैं। हालांकि एनसीडीईएक्स की घटना ने यह साबित कर दिया है कि असल में उनकी यह वैकल्पिक व्यवस्था पूरी तरह कारगर  नहीं है।' इसकी मुख्य वजह  यह है कि डिजास्टर रिकवरी साइट से लीज लाइन कनेक्शन बहुत कम बैंडविड्थ के हैं, जिसका मतलब है कि मुख्य साइट पर लंबे समय तक कारोबार न होने से लंबी अवधि के दौरान उस एक्सचेंज को कारोबार का नुकसान होगा। 
कीवर्ड NCDEX, jins,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक