होम » Commodities
«वापस

घटेगा निर्यातकों का मार्जिन

निर्माल्य बेहड़ा | भुवनेश्वर May 13, 2018 09:36 PM IST

समुद्री खाद्य निर्यात से आमदनी (डॉलर में) 2018-19 में करीब 10 फीसदी घटने के आसार हैं। इसकी वजह यह है कि प्रमुख उत्पादक देशों में वानामेई झींगे का उत्पादन बढ़ा है और अमेरिका से कम मांग आ रही है। निर्यात आमदनी घटने से निर्यातकों के मार्जिन पर असर पड़ेगा। क्रिसिल रिसर्च की एक रिपोर्ट के मुताबिक 2018-19 में समुद्री खाद्य का निर्यात 17 से 18 फीसदी बढ़ेगा, जो वित्त वर्ष 2017 और 2018 की दर क्रमश: 23 और 25 फीसदी से 5 से 7 फीसदी कम है। क्रिसिल ने कहा, 'लेकिन इतनी वृद्धि भी इसे देखते हुए अच्छी है कि यह ऊंचे आधार पर हो रही है।'

 
भारतीय समुद्री खाद्य निर्यात चालू वित्त वर्ष में कीमत के लिहाज से 8 अरब डॉलर का स्तर पार कर सकता है। रिपोर्ट में कहा गया है कि निर्यात मात्रा में 20 से 21 फीसदी बढ़ोतरी की संभावना है, जो पिछले दो वर्षों की दर के बराबर है। वैश्विक आपूर्ति घटने से वित्त वर्ष 2014 में भारतीय निर्यातकों की आमदनी 56 फीसदी बढ़ी थी। लेकिन आपूर्ति बढऩे के बाद वित्त वर्ष 2017 में 2 फीसदी और वित्त वर्ष 2018 में 5 फीसदी घटी है।  रेटिंग एजेंसी ने अपनी रिपोर्ट 'समुद्री खाद्य निर्यात रहेगा मजबूत, लेकिन आमदनी 10 फीसदी घटेगी' में कहा, 'अब दो वजहों से आमदनी पर खतरा पैदा हो रहा है। पहला, भारत और अन्य प्रमुख निर्यातक देशों में वानामेई झींगे का उत्पादन बढ़ा है। दूसरा एक प्रमुख आयातक देश अमेरिका से कम मांग आ रही है। इसके नतीजतन वित्त वर्ष 2019 में निर्यात आमदनी (डॉलर में) 10 फीसदी घटने के आसार हैं।' रिपोर्ट में कहा गया है कि हालांकि मात्रा में लगातार अच्छी वृद्धि और रुपये में अनुमानित अवमूल्यन से असर सीमित रहेगा। 
 
भारतीय झींगे के सबसे बड़े आयातक अमेरिका से आमदनी वित्त वर्ष 2014 और 2015 में तगड़ी बढ़ी, लेकिन आपूर्ति सुधरने के बाद वित्त वर्ष 2016 में घट गई। घटती मांग का असर पहले ही दिखाई दे रहा है क्योंकि अंतरराष्ट्रीय झींगे की मांग दिसंबर, 2017 और फरवरी, 2018 के बीच औसतन 7 फीसदी नीचेा रही हैं। मार्च, 2018 में गिरावट की रफ्तार बढ़कर 11 फीसदी हो गई है और कीमतों में आगे और गिरावट के आसार हैं। अमेरिका ने भारत से आयातित समुद्री खाद्य पर शुरुआती डंपिंग रोधी शुल्क 0.84 फीसदी से बढ़ाकर 2.34 फीसदी कर दिया है। इस बढ़ोतरी से निर्यातकों की आमदनी पर असर होगा। हालांकि इसका मात्रा पर सीधा असर नहीं होगा। अमेरिका डंपिंग रोधी शुल्क की अंतिम दरों की घोषणा जुलाई, 2018 में करेगा। 
कीवर्ड sea food, fish, export,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक