होम » Commodities
«वापस

इनाम से 200 मंडियां और जुड़ेंगी : सचिव

भाषा | नई दिल्ली May 13, 2018 09:37 PM IST

चालू वित्त वर्ष में सरकार 200 और थोक मंडियों को ऑनलाइन मंच इनाम से जोड़ेगी। कृषि सचिव एसके पटनायक ने यह जानकारी दी। साथ ही कहा कि मंडियों के बीच आपस में लेनदेन को भी बढ़ावा दिया जाएगा। मौजूदा समय में 14 राज्यों की 585 निगमित मंडियों को इनाम से जोड़ा जा चुका है। इनाम (इलेक्ट्रॉनिक राष्ट्रीय कृषि बाजार) की शुरुआत अप्रैल 2016 में की गई थी।  पटनायक ने कहा, इस प्रक्रिया में शुरुआती कुछ दिक्कतें आईं लेकिन अब उनसे उबरा जा चुका है। अब इनाम प्रणाली और अधिक स्थापित या स्थाई बन गई है। किसान इससे बहुत खुश हैं और अन्य राज्य सरकारों ने भी इसमें रुचि दिखाई है। 
 
उन्होंने कहा कि इस वर्ष इस प्रणाली से 200 और मंडियों को जोडऩे का लक्ष्य रखा गया है , लेकिन प्राथमिकता मंडियों के बीच आपस में ऑनलाइन कारोबार को बढ़ावा देने और गुणवत्ता को बेहतर करने को दी जाएगी। उन्होंने कहा, हम गुणवत्ता पर ध्यान देंगे और एक बार मंडियों के बीच आपस में ऑनलाइन कारोबार की स्थिति बन गई तो अन्य मंडियों को जोडऩा आसान हो जाएगा। इनाम पर ऑनलाइन कारोबार वेबसाइट, उसके कारोबारी मंच या मोबाइल ऐप से किया जा सकता है। यह कई क्षेत्रीय भाषाओं में उपलब्ध है। अभी तक इस प्रणाली से 14 राज्यों के एक लाख से ज्यादा कारोबारी, 53,163 कमीशन एजेंट और 73.50 लाख किसान जुड़ चुके हैं। यह 14 राज्य आंध्र प्रदेश, छत्तीसगढ़, गुजरात, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, झारखंड, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, ओडिशा, राजस्थान, तमिलनाडु, तेलंगाना, उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड हैं।
कीवर्ड agri, farmer, crop, monsoon,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक