होम » Commodities
«वापस

सोने और चांदी में तेज गिरावट

सुशील मिश्र | मुंबई May 16, 2018 09:57 PM IST

वैश्विक बाजार में सोने की चमक फीकी पडऩे का असर घरेलू बाजार में भी पड़ा है। स्थानीय आभूषण विक्रेताओं की ओर से कमजोर मांग और वैश्विक बाजार में कीमतें गिरने की वजह से आज घरेलू बाजार में सोने में जोरदार गिरावट दर्ज की गई। घरेलू बाजार में महज एक दिन में सोने की कीमतों में 500 रुपये की गिरावट हुई। चांदी के भी भाव लुढ़क गए। वैश्विक बाजार में मजबूत डॉलर और कच्चे तेल में तेजी की वजह से निवेशक सोने से निकल रहे हैं जिसकी वजह से सोने की कीमतों में और गिरावट होने की उम्मीद की जा रही है। 
 
वैश्विक बाजार में सोना सस्ता होने का असर घरेलू बाजार में भी पड़ा। घरेलू बाजार में सोना करीब डेढ़ महीने के निचले स्तर पर पहुंच गया। मुंबई में सोना गिरकर 31,000 रुपये प्रति 10 ग्राम के नीचे पहुंच गया। मुंबई में सोना 485 रुपये प्रति 10 ग्राम गिरकर 30,935 रुपये (स्टैंडर्ड) प्रति 10 ग्राम हो गया। जबकि सोना शुद्ध का भाव 485 रुपये टूटकर 31,085 रुपये प्रति 10 ग्राम हो गया। चांदी के भाव में भी तेज गिरावट देखने को मिली। चांदी 40,000 रुपये प्रति किलोग्राम के नीचे पहुंच गई। मुंबई सराफा बाजार में चांदी 420 रुपये टूटकर 39,385 रुपये प्रति किलोग्राम हो गई। पिछले सप्ताह चांदी का भाव 40,290 रुपये प्रति किलोग्राम पर पहुंच गया था।  
 
वैश्विक बाजार में सोने के दाम इस साल के निचले स्तर पर पहुंच गए हैं। वहां सोने के भाव गिरकर 1286.76 डॉलर प्रति औंस हो गए जो करीब पांच महीने का निचला स्तर है। वैश्विक बाजार में इस स्तर पर सोना 26 दिसंबर, 2017 को था, जबकि पिछले महीने सोना 1,350 डॉलर प्रति औंस तक पहुंच गया था। चांदी की कीमतें भी टूट रही हैं। वैश्विक बाजार में चांदी का भाव गिरकर 16.20 डॉलर औंस रह गया।  सराफा कारोबारी कुमार जैन कहते हैं कि वैश्विक बाजार में कीमतें गिर रही हैं, साथ ही घरेलू मांग कमजोर हो गई है। शादियों का मुहूर्त अब अगले महीने है, और त्योहार भी इस महीने नहीं हैं जिसके कारण घरेलू मांग कमजोर है। अगले एक महीने तक घरेलू बाजार में सोने की मांग सुस्त रहेगी। जैन कहते हैं कि वैश्विक बाजार में कीमतें गिरने की वजह से घरेलू ग्राहकों को लगता है कि यहां भी कीमतों में गिरावट होगी जिसके चलते लोग खरीदारी से बच रहे हैं। दूसरी तरफ बाजार जानकारों का कहना है कि वैश्विक बाजार मेंं डॉलर मजबूत हो रहा है और कच्चे तेल की कीमतें भी बढ़ रही हैं, ऐसे में निवेशक सोने की जगह मुद्रा और शेयर बाजार की तरफ रुख कर रहे हैं। निवेशकों के निकलने की वजह से सोने की कीमतें कम हो रही हैं। 
 
सराफा कारोबारियों की मानी जाए तो वैश्विक बाजार में सोने के दाम 1,250 डॉलर तक आ सकते हैं। ऐसे में निवेशक मुनाफवसूली कर रहे हैं जिसके चलते सोने की चमक और फीकी पड़ेगी। हालांकि घरेलू बाजार में कमजोर रुपये के कारण वैश्विक गिरावट का पूरा फायदा घरेलू ग्राहकों को नहीं मिल रहा है। रुपया 14 महीने के निचले स्तर पर पहुंच चुका है। इस समय वह एक डॉलर के मुकाबले 68 रुपये के आसपास चल रहा है, जो पिछले साल जनवरी में था। कच्चे तेल के दाम बढ़ते हैं तो रुपये में और गिरावट होगी। सोने की तरह चांदी के दाम गिरने की वजह भी कमजोर मांग है। सिक्का ढालने वालों और औद्योगिक इकाइयों की ओर से चांदी का उठाव कम होने से चांदी का भाव टूट रहा है। 
कीवर्ड gold,सराफा बाजार, आभूषण,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक