होम » Commodities
«वापस

पाकिस्तान से चीनी आयात का दाम पर असर नहीं

बीएस संवाददाता और भाषा | मुंबई May 16, 2018 09:57 PM IST

केंद्र सरकार ने पाकिस्तान से बड़ी मात्रा में चीनी का आयात करने संबंधी विपक्ष के आरोपों को खारिज करते हुए आज कहा कि भारत ने इस साल अप्रैल से अब तक महज 1,908 टन चीनी का ही पाकिस्तान से आयात किया है। सरकार ने कहा कि इतनी कम मात्रा में पाकिस्तान से चीनी आयात किए जाने से घरेलू बाजार में चीनी की कीमतों पर असर पडऩा संभव नहीं है।  वाणिज्य मंत्रालय के तहत आने वाले विदेशी व्यापार महानिदेशालय (डीजीएफटी) ने कहा कि वर्ष 2017-18 में 46.8 लाख डॉलर मूल्य की 13,110 टन चीनी का कुल आयात हुआ था जबकि भारत का घरेलू उत्पादन 3.19 करोड़ टन रहा था। डीजीएफटी ने अपने बयान में कहा, 'देश में कुल चीनी उत्पादन और भारत से हुए निर्यात की तुलना में पाकिस्तान से बहुत कम मात्रा में आयात हुआ है।' डीजीएफटी के महानिदेशक आलोक वद्र्धन चतर्वेदी ने बताया कि वित्त वर्ष 2017-18 में भारत ने 17.5 लाख टन चीनी का निर्यात किया था।
 
दुनिया के दूसरे बड़े चीनी उत्पादक देश भारत का चीनी विपणन वर्ष अक्टूबर 2017-सितंबर 2018 में रिकॉर्ड 3.2 करोड़ टन उत्पादन रहने का अनुमान है जबकि एक साल पहले यह 2.03 करोड़ टन रहा था। चीनी की वार्षिक घरेलू मांग करीब 2.5 करोड़ टन रहने का अनुमान है।  देश के प्रमुख गन्ना उत्पादक राज्य महाराष्ट्र में विपक्षी दलों कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) ने केंद्र सरकार पर हमला करते हुए कहा था कि पाकिस्तान से चीनी आयात की अनुमति देने की नीति के कारण घरेलू बाजार में चीनी की कीमतों में भारी गिरावट आ रही है। खुले बाजार में चीनी के भाव 30 रुपये प्रति किलो तक आ गए हैं। सरकार की चीनी आयात नीति से गुस्साए कुछ लोगों ने महाराष्ट्र के ठाणे में एक चीनी भंडारण गृह में तोडफ़ोड़ भी की।  चीनी के सस्ते आयात की खेप को रोकने के लिए केंद्र सरकार ने इसके आयात पर लगने वाले शुल्क को दोगुना कर 100 प्रतिशत कर दिया है। सरकार ने चीनी का अतिरिक्त उत्पादन होने की संभावना को देखते हुए चीनी मिलों से 20 लाख टन चीनी निर्यात करने को भी कहा है।
कीवर्ड pakistan, sugar, import,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक