होम » Commodities
«वापस

अप्रैल में भारत ने ईरान से तेल आयात बढ़ाया

रॉयटर्स | नई दिल्ली May 17, 2018 09:53 PM IST

ईरान से भारत का तेल आयात अप्रैल में बढ़कर 6,40,000 बैरल प्रतिदिन हो गया, जो अक्टूबर, 2016 के बाद से अधिकतम स्तर है। नौवहन और उद्योग से जुड़े सूत्रों के मुताबिक, ईरान पर अमेरिकी प्रतिबंध के संकट को देखते हुए तेलशोधकों ने खरीदारी में यह बढ़ोतरी की है।  आंकड़े बताते हैं कि अप्रैल में भारत का कुल आयात 45.1 लाख बैरल प्रतिदिन रहा, जो एक वर्ष पहले से 2.5 प्रतिशत अधिक है। ईरान से भारत के आयात में मार्च से 49 प्रतिशत तक की बढ़ोतरी हुई है और एक साल पहले के मुकाबले यह 20 प्रतिशत अधिक है। चीन के बाद भारत ईरान का दूसरा सबसे बड़ा कच्चा तेल खरीदार है। ईरान के नौवहन में भारी छूट के लिए राजी होने के बाद सरकारी तेलशोधकों ने अपने आयात में बढ़ोतरी की है। ईरान ने अप्रैल में कुल 26 लाख बैरल प्रतिदिन कच्चा तेल निर्यात किया जो कि जनवरी 2016 में प्रतिबंध हटाये जाने के  बाद एक रिकॉर्ड है। 
 
हालांकि, आगे ईरान के तेल निर्यात में कमी आने की संभावना है। अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने ईरान के परमाणु कार्यक्रम को रोकने के लिए मई की शुरुआत में अमेरिका, ईरान और अन्य वैश्विक शक्तियों के बीच हुए 2015 के समझौते से खुद को अलग करने की घोषणा की थी। अमेरिका फिर से ईरान पर आर्थिक प्रतिबंध लादना चाहता है जिसमें पेट्रोलियम क्षेत्र भी शामिल है।  भारत के पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने 12 मई को कहा था कि अमेरिका के इस प्रतिबंध का भारत पर कितना असर होगा, इस बारे में कुछ कहना फिलहाल जल्दबाजी होगी। सूत्रों के मुताबिक, 2018 के पहले चार महीनों में भारत ने ईरान से 5,52,000 बैरल प्रतिदिन आयात किया, जो एक साल पहले के मुकाबले दो प्रतिशत कम है। मीडिया से बात करने के लिए अधिकृत नहीं होने के कारण सूत्रों ने अपनी पहचान उजागर करने से इनकार कर दिया। 2018 में भारत की ईरान से तेल खरीद में कमी की वजह यह रही कि सरकारी तेलशोधकों ने मार्च तिमाही में कम उपभोग किया। 
 
ईरान के एक प्राकृतिक गैस क्षेत्र के विकास अधिकार को लेकर उपजे तनाव की वजह से सरकारी तेलशोधक कंपनियों ने ईरान से तेल खरीदारी कम कर दी थी। इस कारण वित्त वर्ष 2017-18 के दौरान भारत ने ईरान से 16 प्रतिशत कम तेल आयात किया। आंकड़ों के मुताबिक, पिछले महीने इराक और सऊदी अरब के बाद ईरान भारत को कच्चा तेल निर्यात करने वाला तीसरा सबसे बड़ा आपूर्तिकर्ता रहा। चौथे सबसे बड़े आपूर्तिकर्ता के तौर पर वेनेजुएला ने नाइजीरिया का स्थान ले लिया। दक्षिणी अमेरिका के इस देश ने भारत को अपने तेल निर्यात में इजाफा किया और अमेरिका की आपूर्ति में कटौती की। भारत ने अप्रैल में वेनेजुएला से करीब 3,97,200 बैरल प्रतिदिन हासिल किया, जो सितंबर के बाद से सर्वाधिक है।
कीवर्ड iran, oil, gas,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक