होम » Commodities
«वापस

निपा वायरस से प्रभावित हो सकता है फल निर्यात

शुभायन चक्रवर्ती | नई दिल्ली May 23, 2018 10:16 PM IST

केरल में फैल रहे निपा वायरस से भारत का फल निर्यात भी प्रभावित हो सकता है। आशंका जताई जा रही है कि इससे देश के फल निर्यात में गिरावट आ सकती है। फल निर्यातक भी चालू सीजन में अपनी कम होती संभावना को लेकर काफी चिंतित नजर आ रहे हैं। पिछले वित्त वर्ष की अप्रैल-फरवरी अवधि में भारत का कुल फल निर्यात 1.61 अरब डॉलर रहा, जो 2016-17 में निर्यात किए गए 1.73 अरब डॉलर मूल्य से कम था। पिछले वित्त वर्ष में भारत के लिए फल खंड में 85.6 करोड़ डॉलर के निर्यात के साथ काजू ने सबसे अधिक विदेशी मुद्रा का अर्जन किया। इसके बाद 23 करोड़ डॉलर मूल्य के साथ ताजे या सूखे अंगूर रहे।
 
हाल ही में वाणिज्य सचिव रीता तेवतिया ने कहा कि भारत 50 से अधिक देशों में आमों का निर्यात करता है और 2016-17 में यह निर्यात 5,276.1 करोड़ टन तक पहुंच गया है। फिलहाल सरकार कृषि निर्यात नीति के मसौदे को अंतिम रूप देने की प्रक्रिया में है, जिसका उद्देश्य कृषि उत्पादों के लिए एक स्थिर निर्यात नीति की व्यवस्था करना और 2022 तक कृषि निर्यात को दोगुना करके 60 अरब डॉलर करने की दिशा मेंएक भाग के रूप में मौजूदा नियमों को सुव्यवस्थित करना है। यह मसौदा नीति भारत को कृषि जिंस निर्यात करने वाले शीर्षस्थ 10 देशों की सूची में शामिल करने के लिए प्रोत्साहित करेगी, जबकि इस श्रेणी में वैश्विक निर्यात में भारत की हिस्सेदारी दोगुना होगी।
 
उधर, केरल में निपा वायरस को लेकर चिंताजनक स्थिति बनी हुई है। यह वायरस फल खाने वाले चमगादड़ के जरिये फैलता है। मदुरई में जीव विज्ञान अनुसंधान केंद्र के एस एजहिल वंदन और बी कालीस्वर्ण के एक शोध पत्र के मुताबिक, निर्यातकों की बदकिस्मती से ये चमगादड़ सर्वहारी हैं। जो भी फल इन्हें मिल जाए, ये उसका भक्षण कर सकते हैं। फल खाने वाले ये चमगादड़ केले से लेकर आम, खजूर, रुचिरा, जंगली खजूर और किसी भी तरह के गूदेदार फल तक, सभी प्रकार के फल खाते हैं।
 
विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार, प्राकृतिक रूप में यह वायरस 'पटरोपोडिडे' परिवार की फल खाने वाली चमगादड़ के जरिये फैलता है। इस प्रजाति के एक प्रमुख चमगादड़ 'ग्रेटर इंडियन फ्रुट बैट' दक्षिण एशियाई उपमहाद्वीप के बड़े हिस्सों में रहता है और जब मनुष्य इन चमगादड़ वाले वृक्षों के फल का उपभोग करते हैं तो उनमें भी रोग का संक्रमण होने की संभावना रहती है। मस्तिष्क को नुकसान पहुंचाने वाला निपा वायरस केरल में कम से कम 11 लोगों की जान ले चुका है। वहां चिकित्सा दल इस जानलेवा बीमारी को फैलने से रोकने और इसकी दहशत कम करने की व्यवस्था में लगा हुआ है। 
कीवर्ड keeal virus, export, fruits,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक