होम » Commodities
«वापस

किसानों को राहत, गेहूं पर सीमा शुल्क बढ़ाकर 30 प्रतिशत किया

भाषा | नई दिल्ली May 24, 2018 02:40 PM IST

सरकार ने गेहूं के सस्ते आयात से निपटने और घरेलू उत्पादकों के हितों को ध्यान में रखकर गेहूं पर सीमा शुल्क की दर को 20 प्रतिशत से बढ़ाकर 30 प्रतिशत कर दिया है। साथ ही अखरोट के खोल पर आयात शुल्क को 30 प्रतिशत से बढ़ाकर 100 प्रतिशत किया है। कें द्रीय अप्रत्यक्ष कर एवं सीमा शुल्क बोर्ड (सीबीआईसी) ने कल देर रात अधिसूचना जारी करके यह जानकारी दी।

घेरलू उत्पादन रिकॉर्ड स्तर पर रहने और अंतरराष्ट्रीय बाजार खासकर रूस से सस्ते आयात की चिंता को ध्यान में गेहूं पर आयात शुल्क में वृद्धि का फैसला लिया गया है। विशेषज्ञों ने कहा कि सरकार वैश्विक बाजारों से गेहूं की खरीद को सीमित करना चाहती है ताकि गेहूं की घरेलू कीमतों पर दबाव नहीं आए और 2017-18 फसल वर्ष (जुलाई-जून) के लिए किसानों को कम से कम 1,735 रुपये प्रति क्विंटल का न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) मिल सके।

आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक किसानों ने 2017-18 की गेहूं फसल की कटाई लगभग पूरी कर ली है और सरकार उनसे समर्थन मूल्य पर अब तक 3.33 करोड़ टन गेहूं खरीद चुकी है। एक आटा मिल मालिक ने कहा , 'यदि सरकार सीमा शुल्क में वृद्धि नहीं करती तो उसकी गेहूं की खुली बिक्री प्रभावित होती।' 2017-18 के दौरान देश में 14.8 लाख टन गेहूं का आयात किया गया था।

कीवर्ड wheat, import duty, farmers, सरकार, गेहूं, आयात, सीमा शुल्क, सीबीआईसी,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक