टीसीएस की नजर बड़े डिजिटल अवसर पर

रोमिता मजूमदार | मुंबई Jan 02, 2018 03:34 PM IST

आईटी कंपनी ने परिचालन में किए हैं 50 वर्ष पूरे
टीसीएस ने पिछले कुछ महीनों में अपनी रणनीति में किया है महत्त्वपूर्ण बदलाव

भारत की सबसे बड़ी आईटी सेवा कंपनी टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (टीसीएस) के मुख्य कार्याधिकारी कुशलता, स्वचालन और क्लाउड में व्यावसायिक अवसर तलाश रहे हैं, क्योंकि उनके बड़े वैश्विक ग्राहक अब डिजिटल समेकन के दौर में हैं और ऐसी उभरती प्रौद्योगिकियों का इस्तेमाल कर रहे हैं जिनमें कंपनी संभावनाएं तलाश सकती है।

टीसीएस के मुख्य कार्याधिकारी राजेश गोपीनाथन ने सोमवार को कर्मचारियों को नव वर्ष के अवसर पर भेजे ईमेल संदेश में कहा, 'पिछले साल ग्राहकों के साथ बैठक में, मैंने एजाइल, इंटेलीजेंट, ऑटोमेशन और क्लाउड में आकर्षक अवसरों पर जोर दिया। बड़े उद्यम अब डिजिटल समेकन के दौर में हैं और वे उभरती प्रौद्योगिकियों का इस्तेमाल कर रहे हैं।' उन्होंने कर्मचारियों नई प्रौद्योगिकियां सीखने का आह्वïान करते हुए कहा है, 'हम ग्राहक संगठनों के इस बदलाव में सबसे आगे हैं और उन्हें टीसीएस बिजनेस 4.0 अप्रॉच के इस्तेमाल के जरिये बदलाव की दिशा में आगे बढ़ने में मदद कर रहे हैं।'

आईटी कंपनी ने इस साल परिचालन के 50 वर्ष पूरे किए हैं और डिजिटल फर्स्‍ट टेक्नोलॉजी सेवा प्रदाता बनने के लिए उसने स्वयं की री-ब्रांडिंग पर जोर दिया है। पिछले कुछ महीनों के दौरान, टीसीएस ने अपनी रणनीति पर पुनर्विचार किया और बिजनेस 4.0 बिजनेस प्रणाली को अपनाया जो नए विचारों और बिजनेस मॉडलों पर जोर देती है, ग्राहकों पर केंद्रित है, लोगों का आकलन करने और उन्हें जोड़े रखने में मददगार है।

कंपनी ने परियोजना मॉडलों के लिए अपने पारंपरिक लोगों को अलग करना शुरू किया है, ग्राहकों को श्रेष्ठï मौजूदा टीमों की पेशकश कर रही है, स्वचालन पर जोर दे रही है और ग्राहकों को इसका लाभ मिल रहा है। कंपनी ऐसे समय में मजबूत बने रहने और व्यवसाय बढ़ाने के लिए इस तरह के प्रयास कर रही है जब भारत के आईटी उद्योग को पहली बार रोजगार में कमी की समस्या का सामना करना पड़ रहा है। टीसीएस और उसकी स्थानीय प्रतिस्पर्धी कंपनियों ने पुन: प्रशिक्षण पर जोर दिया है। नए क्षेत्रों में अवसर पाने के लिए नए डिजिटल कौशल के संबंध में हजारों इंजीनियरों को प्रशिक्षित किया है। कंपनी ने 2,50,000 से अधिक कर्मचारियों को नई प्रौद्योगिकियों में पुन:प्रशिक्षित किया है।

गोपीनाथन ने अपने ईमेल संदेश में लिखा है, 'डिजिटल प्रौद्योगिकियों के प्रसार और कुशलता पर जोर देकर मैं आप सभी को डिजिटल लहर पर सवार होने में सक्षम बनाने के लिए हमारे डिजिटल लर्निंग प्लेटफॉर्म का लाभ उठाने के लिए प्रोत्साहित करता हूं। मैं आप सभी को अभ्यास करने और लर्निंग की संस्कृति को बढ़ावा देने और अपनी क्षमताओं को साकार करने के लिए कुशल और डिजिटल चैंपियन बनने के लिए प्रोत्साहित करना चाहता हूं।' हालांकि 2018 में आईटी सेवाओं के लिए वृद्धि की रफ्तार मजबूत बनाने के लिए उभरती प्रौद्योगिकियों की मांग बढ़ने का अनुमान है, लेकिन भारतीय कंपनियों द्वारा अभी इस क्षेत्र में बड़ी उपस्थिति दर्ज करना बाकी है।

कीवर्ड टीसीएस, डिजिटल, आईटी, क्लाउड, राजेश गोपीनाथन, ईमेल, एजाइल, इंटेलीजेंट, ऑटोमेशन,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक