भारत पंप्स में हिस्सेदारी बेचने के लिए सरकार ने मंगाए रुचि पत्र

भाषा | नई दिल्ली Apr 17, 2018 05:18 PM IST

सरकार ने भारत पंप्स में अपनी सारी हिस्सेदारी बेचने के लिए संभावित बोलीदाताओं से रुचि पत्र मांगे हैं। भारी उद्योग मंत्रालय के अधीन आने वाली यह कंपनी घाटे में चल रही है। इच्छुक कंपनियां अपने रुचि पत्र 28 मई तक दाखिल कर सकती हैं। उल्लेखनीय है कि बीते एक महीने में सरकार ने मंत्रालय के अधीन आने वाली तीन केंद्रीय लोक उपक्रमों ( सीपीएसई ) में रणनीतिक बिक्री के लिए रुचि पत्र मांगे हैं। इससे पहले स्कूटर्स इंडिया व हिंदुस्तान न्यूजप्रिंट के लिए भी रुचि पत्र मांगे जा चुके हैं।

सरकार 2018-19 में विनिवेश के जरिए 80,000 करोड़ रुपये जुटाने का लक्ष्य लेकर चल रही है। सरकार ने 31 मार्च को समाप्त वित्त वर्ष में इस मद में एक लाख करोड़ रुपये जुटाए। इसी तरह सरकार की सार्वजनिक विमानन कंपनी एयर इंडिया में 76 प्रतिशत हिस्सेदारी बेचने की योजना है। इसके लिए शुरुआती सूचना ज्ञापन पिछले महीने जारी किया गया। भारी उद्योग मंत्रालय का कहना है कि भारत पंप्स एंड कंप्रेशर्स लिमिटेड में प्रस्तावित 100 प्रतिशत रणनीतिक विनिवेश के बारे में सलाह देने के लिए रिसर्जेंट इंडिया को निवेश व लोक आस्ति प्रबंधन विभाग (दीपम) का सौदा सलाहकार नियुक्त किया गया है।

कीवर्ड Bhatat pumps, Disinvestment, सरकार, भारत पंप्स, हिस्सेदारी, बोलीदाता, भारी उद्योग मंत्रालय,

  
X

शेयर बॉक्स

पर्मलिंक